National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

हिंदू समाज की जबरन धर्मांतरण के खिलाफ ठोस रणनीति की मांग

इस्लामाबाद। पाकिस्तान हिंदू कौंसिल ने सरकार से जबरन धर्म परिवर्तन और हिंदू लड़कियों के बाल विवाह के खिलाफ बिना देर किए ठोस रणनीति बनाने की मांग की है।
‘द नेशन’ की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान हिंदू कौंसिल की प्रबंध समिति की बैठक में सरकार से यह मांग की गई। बैठक के बाद जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी देते हुए बताया गया कि बैठक में कौंसिल के मुख्य पैट्रन व केंद्र में सत्तारूढ़ तहरीके इंसाफ पार्टी के सांसद डॉ. रमेश कुमार वांकवानी, कौंसिल अध्यक्ष गोपाल खमुआनी, उपाध्यक्ष राजा भवन लोहान, महासचिव पुरषोत्तम रमानी, संयुक्त सचिव पमन लाल राठी व अन्य ने हिस्सा लिया।
पाकिस्तान में धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिका की रिपोर्ट, फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) से जुड़े मुद्दों और अल्पसंख्यकों के अधिकारों की सुरक्षा पर भी बैठक में विचार विमर्श किया गया। रमेश कुमार ने हिंदू समुदाय की परेशानियों से जुड़े मुद्दों पर उनके द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी दी।
कुमार ने बैठक में बताया कि उन्होंने जबरन धमार्ंतरण को आपराधिक घोषित करने और इसके शिकार लोगों की सुरक्षा के लिए प्रधानमंत्री, सेना प्रमुख और प्रधान न्यायाधीश को पत्र लिखा है।
उन्होंने इसमें कहा है कि जबरन धमार्ंतरण के शिकार लोगों को अन्य मुद्दों के साथ-साथ आश्रय दिया जाए और उनकी कानूनी व मेडिकल सहायता की जाए। कोई भी युवक या युवती, जब 18 साल के हो जाएं तभी उसके द्वारा किए जाने वाले धर्म परिवर्तन को मान्यता दी जाए। जो कोई जबरन धर्मांतरण का दोषी हो, उसे कम से कम पांच साल कैद की सजा दी जाए और उससे जुर्माना वसूलकर उस धन को पीड़ित को दिया जाए।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar