National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

बढ़ती है डिस्क हर्नियेशन की समस्या : आधुनिक जीवनशैली से

विजय न्यूज़ ब्यूरो
नई दिल्ली। दो प्रमुख बातें जो आप के डिस्क की बनावट को प्रभावित करती हैं। पहली तो यह है कि आप अपने शरीर को कैसे चलाते है और दूसरी वंशानुगत जो आप को अपने माता-पिता से जीन्स में मिला है। यह सच है कि हम माता-पिता या अपने जीन्स के बारे में कुछ भी नहीं कर सकते है, लेकिन अपनी आदतों को बदल कर अपनी कमर और रीढ़ की हडड्ी कीे मदद कर सकते हैं। नई दिल्ली वसंतकुंज स्थित स्पाइऩ और ब्रेन क्लिनिक के एच ओ डी न्यूरो सर्जरी डॉ.अमिताभ गुप्ता का कहना है कि कुछ दैनिक गतिविधियां ऐसी है जिनमे बदलाव लाकर आप पीठ के निचले हिस्से की डिस्क में सुधार करने में मदद कर सकते हैं जैसे कि-जुराबें कैसे उठाएं। अपने जूते कैसे डालें। ड्रेसिंग टेबल या फ्रिंज के नीचले दराज में देखेने या खोजने के लिए किस प्रकार सही ढंग से झुके। बाथरूम दर्पण के सामने ब्रशिंग, शेविंग या मेकअप करते समय सही मुद्रा रखना। बिस्तर बनाना। कुबड़ निकालकर बैठना या ड्राइविंग करना।

ये दैनिक गतिविधियां डिस्क को बाहर की ओर धकेलती है, जब आप गलत तरीके से आगे की ओर झुकते हैं। इन सब गतिविधियो में ड्राइविंग और बैठने को छोडकर कुछ बाते सामान्य है। जब आप आगे झुके होते है या रीढ की हडड्ी को टेढ़ा करके काम कर रहे होते हैं तब यह दैनिक गतिविधियां आप की डिस्क को तंत्रिका की ओर धकेलती है। आप को इन सभी दैनिक गतिविधियों को दुबारा सीखने की जरूरत नहीं है। शीशे के सामने देखते हुए घुटनों को मोड़ कर आगे झुकने की कोशिश करे, इस समय छड़ी तीनो अंको को छू रही हो। फिर आप रोजमर्रा की जिंदगी में इस प्रक्रिया का सही ढंग से इस्तेमाल करे। शुरुआती तौर पर हर बार इस प्रकार की गतिविधि करते समय सजग रहे।

डॉ.अमिताभ गुप्ता का कहना है कि एक कुर्सी में बैठने या ड्राइविंग के लिए आप तौलिया को रोल करके उसके दोनो छोर पर टेप लगाकर अपनेें पीठ के निचले खाली हिस्से में कमर के पीछे स्पोर्ट की तरह रख लें। डिस्क हर्नियेशन की दैनिक गतिविधियों के लिए गाइड-याद रखें यह सभी गतिविधियां दर्द मुक्त हो। हमेशा जब भी रीढ़ की किसी भी गतिविधि करते समय पीठ में दर्द होनेें लगे तो तुरंत उसे बंद कर दें। डिस्क हर्नियेशन लंबे समय तक बैठने के कारण भी होता हैं, विशेष रूप से लंबे समय तक ड्राइविंग करना। डिस्क हर्नियेशन बार-बार आगे झुकने की प्रक्रिया से भी होता है। हद से ज्यादा लिफ्टिंग, पुलिंग/पुशिंग के कारण डिस्क हर्नियेशन हो सकता है। लंबे समय तक रीढ की हडड्ी का टेड़ी-मेड़ी स्थिती में घुमाव या झुकाव के कारण डिस्क हर्नियेशन हो सकता है। साइकिल रिक्शा, आटो रिक्शा या टू विहलर में ट्रेवल करते समय झटके लगने के कारण भी समस्या बढ़ सकती है। लंबे समय तक जमीन या कुर्सी पर बैठने के बाद, आपको कुछ देर तक खड़ा रहना चाहिए। इसलिए जमीन से वजन उठाने के प्रयास से कुछ मिनट पहले खड़े होना बहुत जरूरी हैं। याद रखें कि सही ढंग से दैनिक डिस्क गतिविधियां करने से आप कमर दर्द रहित जीवन व्यतीत कर सकते हंै।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar