न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

वजूद

उड़ चुके हैं जो परिंदे
वो फिर लौटकर आएंगे,
मेरे पास न सही
खुदा तेरे पास तो
जरूर आएंगे।
ये सारा जहान तेरा है,
मुझ से न सही
पर तुम से तो
फिर से जरूर टकराएंगे।
जब मिले तुमको
तो पूछना ज़रा बैठकर,
जान कर भी तेरे वजूद को
तेरे ही इंसा को
फिर क्यों तड़पा रहे थे ?
जानकर भी
कि ये धरती ये आसमा
सब तेरा है
फिर क्यों किसी का
भाग्य विधाता बनकर बैठे थे?

राजीव डोगरा ‘विमल’

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar