National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

कोरोना वायरस की आड़ में लोगों के पर्सनल डेटा पर हैकर्स की नजर

 पाकिस्तान/चीन. कोरोनावायरस  दुनियाभर में दहशत का कारण बना हआ है. इसके चलते अब तक 600 से ज्यादा लोगों की मौत चुकी है. चीन से शुरू हुआ यह वायरस अब कई देशों तक पहुंच चुका है. इससे बचने के लिए लोग इंटरनेट पर तरह-तरह के उपाय ढूंढ़ रहे हैं, लेकिन कोरोनावायरस से भी ज्यादा अब आपको हैकर्स से डरने की जरूरत है.
सायबर सिक्योरिटी फर्म कैस्परस्काय  की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोनावायरस के डर का सबसे ज्यादा फायदा हैकर्स उठा रहे हैं. इन हैकर्स की नजर उन लोगों पर है जो इस खतरनाक वायरस के लक्षण और इसकी बचने के तरीके इंटरनेट पर ढूंढ़ रहे हैं.

1. पर्सनल डेटा चुरा रहे

कैस्परस्काय के शोधकर्ताओं के मुताबिक, लोगों को इस वायरस से संबंधित जानकारी और सेफ्टी टिप्स के नाम पर सायबर अपराधी खतरनाक फाइलें यूजर्स के कम्प्यूटर तक पहुंचा कर पर्सनल डेटा चुरा रहे हैं. शोधकर्ताओं को कोरोनावायरस के पीडीएफ, एमपी4 और डॉक्स फाइल में छुपी तमाम फाइलें मिली हैं.

2. हैकर्स करते हैं ये दावा

हैकर्स द्वारा भेजी गई इन फाइलों में दावा किया जाता है कि इन फाइल्स में वायरस के बचने के लिए वीडियो निर्देश दिए गए हैं. इसके साथ ही इसमें कोरोनावायरस को लेकर लेटेस्ट अपडेट्स और उसकी पहचान करने के तरीके बताए गए हैं. कैस्परस्काय के मालवेयर एनालिस्ट एनटॉन इवानॉव ने बताया कि हम ऐसी 10 फाइलें ढूंढ़ी हैं, जिनमें बेहद खतरनाक ट्रोजन वायरस थे. ये यूजर के डेटा को नुकसान पहुंचाने, ब्लॉक करने, मॉडिफाई और कॉपी करने समेत कम्प्यूटर नेटवर्क और ऑपरेशन में बदलाव कर सकती हैं.

3. अनजान लिंक पर क्लिक न करें
कैस्परस्काय ने रिपोर्ट के साथ ही चेतावनी भी दी है कि इन फाइलों से बचने के लिए यूजर ध्यान रखें कि वे किसी अनजान या संवेदनशील लिंक पर क्लिक न करें. इससे बचने के लिए लिंक के फाइल एक्सटेंशन पर गौर करें. उन्होंने आगे बताया कि डॉक्यूमेंट या वीडियो कभी भी .exe या .lnk फॉर्मेट की नहीं होती. इस तरह के लिंक को न खोलें.

4. WHO की वेबसाइट पर जाएं
कोरोनावायरस के बारे में जानकारी के लिए सीधा WHO की वेबसाइट पर जाएं. इसमें वायरस के प्रकोप, खुद को इससे सुरक्षित रखने के तरीके, न्यूज, रिसोर्स समेत डब्ल्यूएचओ ट्विटर पर दी गई लाइव अपडे्स शामिल हैं. इससे न सिर्फ लोगों में कोरोनावायरस के बारे में सही जानकारियां मिलेंगी बल्कि उन्हें गलत लिंक और अफवाहों से दूर रखा जा सकेगा.

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar