न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

हाईफन ने रिटेल सेगमेंट में रखा कदम, 2022 तक 20% बाजार हिस्सेदारी हासिल करने का लक्ष्य

  • कंपनी ने मुंबई, दिल्ली, अहमदाबाद, पुणे, बेंगलुरु, और हैदराबाद में 6000 खुदरा विक्रेताओं के साथ गठबंधन किया है और जल्द ही यह महत्वपूर्ण ई-कॉम प्लेटफार्मों पर उपलब्ध होगी।
  • विस्तार के लिए 300 करोड़ रुपये का पूँजीगत व्यय (कैपेक्स) निवेश
  • 2022 तक विनिर्माण क्षमता को 2 लाख टन तक बढ़ाने की योजना

नई दिल्ली। भारत के उत्कृष्ट कोटि के फ्रोजन आलू उत्पादों के सबसे बड़े उत्पादकों और निर्यातकों में से एक, हाईफन ने खुदरा क्षेत्र में अपने पदार्पण की घोषणा कर दी है। इसके पीछे कंपनी का लक्ष्य भारतीय उपभोक्ताओं के बीच अपनी पहुँच का विस्तार करना है। सरकार की मेक इन इंडिया पहल के अनुरूप कंपनी ने 2015 में मेहसाणा, गुजरात में एक अत्याधुनिक आलू प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित किया था। महज पाँच वर्षों के भीतर हाईफन ने घरेलू और निर्यात बाजार, दोनों में होरेका (HoReCa) और क्यूएसआर (QSR) में जबरदस्त सफलता दर्ज की।

अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कंपनी की मौजूदगी का विस्तार और भारतीय बाजार में बढ़ती माँग को पूरा करने की एकमात्र दृष्टि के साथ, हाईफन 2022 तक अपनी 80 हजार टन की कुल विनिर्माण क्षमता को बढ़ाकर 200 हजार टन तक ले जायेगी। आईएमएआरसी के शोध के अनुसार अगले पाँच वर्षों के दौरान फ्रोजन आलू उत्पाद बाजार के 17.30% की सीएजीआर से बढ़ने की संभावना है। अध्ययन में आगे कहा गया है कि देश में फ्रोजन आलू उत्पादों की माँग काफी बढ़ी है, क्योंकि वे विभिन्न स्वादों, आकृतियों और आकारों में आते हैं, ये पकाने में आसान होते हैं और उपभोक्ताओं की स्वाद संबंधी विभिन्न प्राथमिकताओं को पूरा करते हैं।

हाईफन के सीईओ, श्री हरेश करमचंदानी ने घोषणा पर कहा कि, “वर्तमान में जारी महामारी के दौरान, हम उपभोक्ताओं को भोजन के अच्छी गुणवत्ता और सुविधाजनक विकल्पों की तलाश करते हुए देख रहे हैं, जो उनकी विविध स्वाद प्राथमिकताओं को पूरा करता हो। काम करने वाले पेशेवर और घर की महिलाएँ अब ऐसे साधारण भोजन को पसंद कर रहीं हैं, जो स्वच्छ, सुरक्षित और तैयार करने में आसान हो। इसी को ध्यान में रखते हुए, हाईफन के उत्पाद रोजमर्रा के भोजन की जरूरतों को आसान तरीके से पूरा करेंगे। हम इस बात से उत्साहित हैं कि हमारे कई शानदार उत्पाद पाइपलाइन में हैं, जो भारतीय ग्राहकों के स्वाद को बढ़ाएंगे और उन्हें भोजन के ज्यादा विकल्प प्रदान करेंगे।”

उन्होंने आगे यह भी कहा कि, “हम अपनी विस्तार योजना के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश कर रहे हैं, और इसके साथ, हम गुजरात में रोजगार के स्थानीय अवसरों का सृजन करना चाहते हैं। हम एफएसएसएआई द्वारा जारी खाद्य स्वच्छता और सुरक्षा दिशानिर्देशों के अनुसार खाद्य सुरक्षा के उच्चतम स्तर को सुनिश्चित करने के लिए शामिल प्रक्रियाओं का पूरा ध्यान रखेंगे।”

विपणन योजनाओं पर अपने विचार साझा करते हुए हाईफन के मार्केटिंग हेड, श्री वरुण मलिक ने कहा कि, “हम एक डिजिटल दृष्टिकोण को प्राथमिकता देने के साथ एकीकृत विपणन रणनीति की योजना बना रहे हैं। डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म ब्रांड बनाने और उपभोक्ताओं तक पहुँचने के लिए प्राथमिक माध्यम होंगे। इसके अलावा, हम कई टचपॉइंट पर उपभोक्ताओं को सक्रिय करने के लिए ट्रेड मार्केटिंग कार्यक्रम और सैंपल देने पर भी ध्यान केंद्रित करेंगे।”

हाईफन पकाने में आसान 25 से ज्यादा फ्रोजन स्नैक्स, जैसे कि फ्रेंच फ्राइज़, आलू टिक्की, बर्गर पैटीज़, नगेट् इत्यादि पेश करता है, जो खाद्य सेवा/होरेका चैनलों में इसके सम्मानित भारतीय और विदेशी चैनल पार्टनरों/वितरकों के माध्यम से उपलब्ध हैं। ब्रांड ने अपने उत्पादों को भारतीय स्वाद के अनुरूप बनाया है, जो आलू टिक्की, मुंबई के आलू वड़ा, साबुदाना पैटी जैसी व्यंजनों के रूप में परिलक्षित होते हैं। ये सबसे पसंदीदा और लोकप्रिय भारतीय स्नैक्स हैं। उनके पोर्टफोलियो का एक और रोमांचक और अनोखा स्नैक है “पोटाटोबेट्स” (मैश किए हुए आलू को अल्फाबेट्स का आकार देकर), जो खासकर बच्चों के लिए बनाया गया है।
हाईफन अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ अवसंरचना पर गर्व करता है। यहाँ की पूर्ण स्वचालित प्रक्रियाएँ सुनिश्चित करती हैं कि जो भी उत्पाद तैयार हों, उन्हें हाथ से न छुआ जाए। इसकी विनिर्माण प्रथाएँ और स्वच्छता उत्कृष्टता वैश्विक मानकों से मेल खाती है, जिसके कारण हाईफन को बीआरसीजीएस (BRCGS) से एए (AA ) ग्रेड मिला हुआ है। प्रबंधन ने सभी कर्मचारियों और खाद्य संचालकों की कड़ी जाँचऔर निगरानी की व्यवस्था को भी लागू करते हुए यह सुनिश्चित किया है कि हर कोई सामाजिक दूरी के मानदंडों का पालन करे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar