National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

INDvsAUS: आखिरी मैच जीत 4-1 से सीरीज फतह करने के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया

नागपुर। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पांच वनडे मैचों की सीरीज का आखिरी मैच नागपुर में होना है। सीरीज को भारतीय टीम 3-1 से अपने नाम कर चुकी है और उसकी कोशिश होगी कि लय हासिल कर चुकी ऑस्ट्रेलिया को वह आखिरी वनडे मैच में हरा दे। हालांकि, ऐसा करना अब आसान नहीं होगा लेकिन आत्मविश्वास से ओतप्रोत भारतीय टीम रविवार को पांचवां और आखिरी वनडे जीतकर सीरीज 4-1 से जीतने के इरादे से उतरेगी।

टूटा टीम इंडिया का तिलिस्म –

भारत सीरीज पहले ही जीत चुका है और चौथे वनडे में उसे बेंच स्ट्रेंथ को आजमाने का मौका मिला लेकिन टीम 21 रन से हार गई। इससे उसका नौ मैचों की जीत का सिलसिला टूट गया। भारत के तीनों गेंदबाज मोहम्मद शमी, उमेश यादव और अक्षर पटेल पहली बार काफी महंगे साबित हुए लेकिन भारत का हार के लिए अकेले वे ही कसूरवार नहीं थे।

कोहली ने किया था इनका बचाव –

विराट कोहली ने अपने गेंदबाजों का बचाव किया लेकिन कहा कि बल्लेबाज बेहतर प्रदर्शन कर सकते थे। कोहली अगर रविवार के मैच में रिजर्व गेंदबाजों को मौका देते हैं तो कोई अचरज की बात नहीं होगी। ऐसे में जसप्रीत बुमरा, भुवनेश्वर कुमार और कुलदीप यादव को और आराम दिया जा सकता है।

राहुल को मिल सकता है मौका –

विराट ने कहा, हमने सीरीज जीत ली है और हर खिलाड़ी को मौका तो देना ही है। हमें बेंच स्ट्रेंथ को भी आजमाना होगा। बल्लेबाजी में केएल राहुल को मौका दिया जा सकता है क्योंकि वह इकलौते बल्लेबाज हैं जिन्हें अभी तक इस सीरीज में एक भी मैच खेलने का अवसर नहीं मिला।

जीत से मिलेगा टी-20 सीरीज के लिए उत्साह –

टीम प्रबंधन को इस मैच के लिए अपनी रणनीति पर पुनर्विचार करना होगा क्योंकि दोनों टीमें अक्टूबर में रांची से शुरू हो रही टी-20 सीरीज में जीत के साथ उतरना चाहेंगी। भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे ने बेंगलुरु में अच्छी शुरुआत की और लगातार दूसरी शतकीय साझेदारी निभाई, लेकिन मध्यक्रम उसका फायदा नहीं उठा सका।

पांड्या, जाधव, पांडे नहीं हैं धोनी जैसे फिनिशर –

हार्दिक पांड्या इंदौर में बल्लेबाजी क्रम में चौथे नंबर पर उतरे और लाजवाब पारी खेली लेकिन उसे पिछले मैच में दोहरा नहीं सके। पांड्या को ऊपर उतारने से एम एस धोनी सातवें नंबर पर उतरे और पूर्व कप्तान को पूरा समय नहीं मिल सका। धोनी से पहले आए पांड्या और केदार जाधव के पास काफी समय था लेकिन वे मैच को फिनिशिंग तक नहीं ले जा सके। मनीष पांडे इस सीरीज में अभी तक अर्धशतक नहीं बना सके हैं और पिछले मैच में भी गलत समय पर आउट हो गए। आखिर में सारी जिम्मेदारी धोनी पर आन पड़ी थी।

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों से रहना होगा सावधान –

ऑस्ट्रेलिया को शुरुआत में भी मौके मिले लेकिन वे बेंगलुरु में ही कामयाब रहे। उसके बल्लेबाजों और गेंदबाजों दोनों ने उम्दा प्रदर्शन किया। तेज गेंदबाज पैट कमिंस, नाथन-कूल्टर-नाइल और केन रिचर्डसन ने डैथ ओवरों में बेहतरीन गेंदबाजी करके मैच भारत से छीन लिया। एरॉन फिंच के आने से बल्लेबाजी और मजबूत हुई है जिन्होंने 124 और फिर 94 रन की पारियां खेली। सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने भी 100वें वनडे में 124 रन बनाए। यह देखना होगा कि ऑस्ट्रेलिया खराब फॉर्म से जूझ रहे ग्लेन मैक्सवेल को वापसी का मौका देता है या नहीं। विकेटकीपर मैथ्यू वेड ने पिछले मैच में उनकी जगह ली थी। दूसरे विकेटकीपर पीटर हैंडस्कांब ने 30 गेंद में 43 रन बनाकर टीम को 300 रन के पार पहुंचाया।

टीमें इस प्रकार हैं –

भारत- विराट कोहली ( कप्तान ), रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, मनीष पांडे, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धौनी, हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमरा, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, अक्षर पटेल, लोकेश राहुल।

ऑस्ट्रेलिया- स्टीव स्मिथ ( कप्तान), डेविड वॉर्नर, हिल्टन कार्टराइट, ट्रेविस हेड, ग्लेन मैक्सवेल, मार्कस स्टोइनिस, मैथ्यू वेड, एश्टन एगर, केन रिचर्डसन, पैट कमिंस, नाथन-कूल्टर-नाइल, आरोन फिंच, पीटर हैंडस्कांब, जेम्स फॉकनर, एडम झांपा।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar