National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

इन्तजार

इस जिंदगी में बहार है
इसमे तेरा ही सार हैं

तू मेरी दुआ में शुमार है
पर तुम्हारा इंतजार है।

तेरी यादों में खो जाता हूं
आज जब आता इतवार है

तू ही है सब कुछ मेरा
तू ही बरखा तू ही बहार है

ख्यालों से मेरी दुनिया गुलजार है
हमेशा हर पल तुम्हारा इंतजार है।

तूने सिर्फ मुझको ही चाहा
इसलिए तुम्हारा इतंजार है।

एक नजर में मेरा हाल जान लेती
वह तेरी आदत आज भी बरकरार है

प्यार पाने को आज भी तैयार है
पर तुम्हारा इंतजार है।

मुकेश बिस्सा
जैसलमेर

Print Friendly, PDF & Email
Tags:
Translate »