National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

पुलवामा के शहीदों को साहित्यकारों ने दी श्रद्धांजलि

डॉ. शम्भू पंवार
नई दिल्ली। इन्द्रप्रस्थ साहित्य भारती, दिल्ली प्रान्त (सम्बद्ध अखिल भारतीय साहित्य परिषद्) द्वारा शहीद स्मारक स्थल, इंडिया गेट पर पुलवामा में शहीद हुए जवानों की बरसी पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया | कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री विनोद बब्बर ने की । कार्यक्रम का आरम्भ कवयित्री पूनम माटिया जी की देश-भक्ति की कविता

“जान देकर देश का तुम भाल ऊँचा कर गये
अपनी क़ुर्बानी से भारत माँ का टीका कर गए
ओ वतन के बागबां तुमसे ही तो ख़ुशियाँ सभी
खेल होली खून की आँगन में मेला कर गए ” से हुआ।

साहित्यकार संजीव सिन्हा जी ने कहा कि सरहद पर खड़े जवानो की वजह से ही हम आज सुरक्षित हैं हम उनके सदा ऋणी रहेंगे | राष्ट्रीय कवि जय सिंह जी ने एक कविता के माध्यम से अपनी बात कही ” ये सत्य है ये सत्य है-बलिदान तुम्हारा ये व्यर्थ नहीं होगा।”
साहित्यकार श्री प्रवीण आर्य ने कहा कि हम पुलवामा में शहीद हुए जवानों को नमन करते हैं और पाकिस्तान द्वारा किये गए इस कृत्य की घोर निंदा करते हैं | एक देश मिल जाने के बाद भी वो अपने षड्यंत्र चलता रहता है अब का भारत वो पुराना भारत नहीं है, अब यह घर में घुस कर मारता है |
पंजाबी साहित्यकार श्री जगदीश जी, श्रीमती सुनीता बुग्गा, जितेंद्र कुमार, श्रीमती नीलम भागी, श्री मनोज शर्मा, वरिष्ठ साहित्यकार श्री विनोद बब्बर जी ने शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। तत्पश्चात सभी ने अमर जवान ज्योति पर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की । संचालन मनोज शर्मा ने किया। अंत में प्रवीण आर्य ने सभी का आभार व्यक्त किया।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar