National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

महिंद्रा इलेक्ट्रिक ने हल्‍के इलेक्ट्रिक व्‍हीकल्‍स के लिए ग्‍लोबल इलेक्ट्रिफिकेशन समाधान लॉन्‍च किया

  • दुनिया भर के लोगों तक ई-मोबिलिटी ले जाने के लिए Green.TV से जुड़ा महिंद्रा इलेक्ट्रिक
  • लाइट ईवी के लिए अपने एमईएसएमए 48 प्‍लेटफॉर्म के वैश्विक लॉन्‍च की घोषणा की

बेंगलुरू। महिंद्रा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेडजो 19.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाले महिंद्रा समूह का घटक हैको गर्व है कि यह आज मनाये जाने वाले सर्वप्रथम वर्ल्‍ड ईवी डे के संस्‍थापक सदस्‍यों में से एक है। वर्ल्‍ड ईवी डेGreen.TV द्वारा आयोजित किया जा रहा है और इसका उद्देश्‍य वैश्विक वैद्युत चालकता के बारे में जागरूकता पैदा करना है। इस दिन, ग्‍लोबल लीडर्स एक साथ जुटकर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के लाभों के बारे में बतायेंगे और वैश्विक मंच पर विद्युत-चालित वाहनों का प्रचार-प्रसार करेंगे। महिंद्रा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, इंडिया के प्रबंध निदेशक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, महेश बाबूके अनुसार, ”ई-मोबिलिटी के जरिए भविष्‍य का सफर तय करने के लिए लगातार प्रयास चल रहा है। ईवी के जरिए हमारा उद्देश्‍य दुनिया भर में फर्स्‍ट एवं लास्‍ट माइल परिवहन में क्रांति लाना और ई-मोबिलिटी को व्‍यापक रूप से लोगों के लिए उपलब्‍ध कराना है। वर्ल्‍ड ईवी डे, दुनिया के बाजारों के लिए अगले बड़े आइडियाज के बारे में चर्चा करने हेतु एक विशाल मंच है और इस अवसर पर, हम वैश्विक रूप से अपने एमईएसएमए 48 प्‍लेटफॉर्म को लॉन्‍च करेंगे।” महिंद्रा इलेक्ट्रिक का विशाल एमईएसएमए 48 प्लेटफ़ॉर्म विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी गुणवत्ता प्रदान करता है और यह प्रभावी है। यह कंपनी की सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली ईवी प्रौद्योगिकी समाधान वास्तुकला में से एक है। भारतीय रोडवेज में 11,000 से अधिक ईवीएस के लिए मंच तक अत्यधिक स्केलेबल और हैसियत है। यह वाहनों की एक श्रृंखला को विद्युतीकृत कर सकता है, जिसमें व्हीलचेयर, क्वाड्रिसाइकिल और यहां तक ​​कि कॉम्पैक्ट कार शामिल हैं।

विशेषताएं

  • प्रदर्शन और रेंज दोनों के संदर्भ में स्केलेबल,44V से 96V तक वोल्टेज सिस्टम की पेशकश।
  • बेहतर बेहतर त्वरण समकक्षों को बढ़ावा देता है।
  • अवयव आवश्यकता के अनुसार उपलब्ध हैं।
  • ड्राइवट्रेन,6kW से 40kW की शक्ति के साथ बाद में टॉर्क 40 Nm से 120Nm तक, प्रदर्शन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए थ्रीव्हेयरिंग ट्रांसमिशन अनुपात के साथ उपलब्ध कराया जा सकता है।
  • 80 किमी / घंटा तक की शीर्ष गतिएमईएसएमए 48 प्लेटफॉर्म के साथ प्राप्त की जा सकती है, जिससे यह यात्री के साथ-साथ लोड-सेगमेंट सेगमेंट के लिए एकदम सही हो जाता है।
  • कठोर और लचीली धुरी प्रणाली के साथ संगत,एमईएसएमए 48 मंच L5, L6 और L7 श्रेणियों के लिए उपयुक्त है।
  • ड्राइव-स्ट्रेन,बैटरी पैक, इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोल यूनिट, पावर इलेक्ट्रॉनिक्स (MCU, OBC, LDC, PDU), उनके संबंधित सॉफ्टवेयर, सॉफ्टवेयर कैलिब्रेशन, वाहन इंटीग्रेशन और टेस्टिंग कैपेबिलिटीस्टैट जैसे प्रमुख ईवी घटकों की पेशकश करने वाला वन-स्टॉप सॉल्यूशन किसी उत्पाद को लॉन्च करने में मदद कर सकता है। सबसे तेज संभव समय में।

किफ़ायती

 एकीकृत ड्राइवट्रेन समाधान, उच्च शक्ति घनत्व की ओर ले जाता है, जिससे लागत प्रभावी होती है।  लागत कुशल, अत्यधिक मजबूत, तापमान सहिष्णु एलएफपी कोशिकाओं और उच्च ऊर्जा घनत्व एनएमसी कोशिकाओं का उपयोग जो ग्राहकों के विस्तृत समूह के प्रदर्शन, रेंज, मूल्य और पर्यावरण आवश्यकताओं से मेल खा सकते हैं। टर्नकी समाधान प्रदाता के रूप में, महिंद्रा इलेक्ट्रिक निवेश को कम करने और अपने ग्राहकों के पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं के लाभों पर पारित करने में मदद कर सकता है।

मानक

सभी प्रमुख चार्जिंग प्रोटोकॉल जैसे कि CHADEMO, GBT, CCS और BCP के साथ ओबीसी संगत।  BMS, सीरीज में 18 सेल्‍स तक के सिस्टम के लिए डिज़ाइन किया गया है और यह ISO 26262 ASIL-B के अनुरूप है।

उपलब्धियां

भारतीय सड़कों पर महिंद्रा ईवशेव 234 मिलियन किलोमीटर से अधिक पार कर गया। हमारी 600 सदस्‍यों की टीम एक दशक के अनुभव के आधार पर विद्युतीकरण प्रौद्योगिकी समाधान में विशेषज्ञता प्रदान करती है।  हमारे पास वैश्विक रूप से दायर 50 से अधिक पेटेंट हैं।

सस्‍टेनेबल मीडिया कंपनी, Green.TV के संस्थापक एडे थॉमस ने कहा: “मेरे पास विश्व ईवी दिवस के लिए एक दिन के रूप में एक दृष्टिकोण था जो वास्तव में स्थायी गतिशीलता में बदलाव लाने में मदद करेगा। महिंद्रा इलेक्ट्रिक भारत में इलेक्ट्रिक वाहन प्रौद्योगिकी का अग्रणी है, और इस दृष्टि को साझा करता है। मुझे यह कहते हुए हर्ष हो रहा है कि महिंद्रा इलेक्ट्रिक के साथ-साथ अन्य वैश्विक ओईएम, बुनियादी ढाँचे की कंपनियों को चार्ज करना और मोबिलिटी स्पेस में स्टार्ट-अप्स, वास्तविक बदलाव का दिन बनाने के लिए सभी एक साथ आ रहे हैं।” एमईएसएमए के बारे मेंमहिंद्रा इलेक्ट्रिक स्केलेबल मॉड्यूलर आर्किटेक्चर (एमईएसएमए) भारत की पहली इलेक्ट्रिक आर्किटेक्चर है जिसे हमारे विशेषज्ञों और इंजीनियरों द्वारा इलेक्ट्रिक वाहन प्रौद्योगिकी में एक दशक के अनुभव के साथ बनाया गया है। वास्तुकला के सभी घटकों को बैटरी कोशिकाओं को छोड़कर, भारत में हमारे कारखाने में निर्मित और इकट्ठा किया जा रहा है। यह विद्यमान आईसीई वाहनों को इलेक्ट्रिक में परिवर्तित करने के लिए उपयुक्त है, साथ ही साथ इलेक्ट्रिक वाहनों को बनाने के लिए भी उपयुक्त है। एमईएसएमए दर्शन के तहत, हमारे पास एमईएसएमए 48, एमईएसएमए 72 और एमईएसएमए 350, जैसे सभी कैटरिंग से लेकर विभिन्न श्रेणी के वाहन हैं। महिंद्रा इलेक्ट्रिक के बारे मेंमहिंद्रा इलेक्ट्रिक, USD 19.4 बिलियन महिंद्रा ग्रुप का एक हिस्सा इलेक्ट्रिक वाहनों के विकास और उत्पादन में एक वैश्विक अग्रणी है। महिंद्रा इलेक्ट्रिक भारत की एकमात्र ईवी निर्माता है जिसने स्वदेशी रूप से विकसित ईवी प्रौद्योगिकियों के साथ वैश्विक प्रशंसा हासिल की है। इन वर्षों में, महिंद्रा इलेक्ट्रिक ने e­2oप्‍लस हैच के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों के सबसे विविध विभागों में से एक विकसित किया है, तिपहिया वाहनों की ट्रेओ रेंज, विद्युतीकृत ईवेरिटो सेडान, और यात्री और वाणिज्यिक के लिए विद्युतीकृत eSupro मिनी-वैन खंड। वैकल्पिक प्रौद्योगिकी के प्रतिमान में बदलाव से महिंद्रा इलेक्ट्रिक ने भारत के लिए कल एक साफ, हरा और अधिक सक्षम बनाने में मदद की है और कंपनी वैश्विक बाजारों के लिए उत्पादों का निर्माण कर रही है।

महिन्द्रा के विषय में

महिन्द्रा समूह 19.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला कंपनियों का संघ हैजो नये-नये मोबिलिटी समाधानों के जरिए और ग्रामीण समृद्धिशहरी रहन-सहन को बढ़ाते हुएनये व्यवसायों को प्रोत्साहन देकर और समुदायों की सहायता के जरिए लोगों को राइज अर्थात़ उत्थान करने में सक्षम बनाता है।इसका ट्रैक्टरउपयोगिता वाहनसूचना प्रौद्योगिकी और वैकेशन ओनरशिप में अग्रणी स्थान है और यह वॉल्युम की दृष्टि से दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है। कृषि-व्यवसायएयरोस्पेसकल-पुर्जेपरामर्श सेवाओंप्रतिरक्षाऊर्जा,औद्योगिक सेवाओंलॉजिस्टिक्सजमीन-जायदादखुदराइस्पात और दोपहिये उद्योगों में महिन्द्रा की महत्वपूर्ण मौजूदगी है। इसका मुख्यालय भारत में है। महिन्द्रा में 100 से अधिक देशों में 2,56,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar