न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

महिंद्रा के इलैक्ट्रिक थ्री-व्हीलर कार्गो महिंद्रा ट्रेओ जोर ने 1,000 यूनिट की बिक्री का माइलस्टोन पार किया

लॉन्च के बाद सिर्फ 6 महीने में अपने सेगमेंट में लीडरशिप पोजीशन पर कायम

बेंगलुरू। 19.4 बिलियन अमेरिकी डाॅलर वाले महिंद्रा समूह की इकाई महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड (एम एंड एम) ने आज अपने लोकप्रिय इलैक्ट्रिक थ्री-व्हीलर कार्गो महिंद्रा ट्रेओ जोर द्वारा 1,000 यूनिट की बिक्री का माइलस्टोन पार करने की घोषणा की। लॉन्च होने के सिर्फ छह महीनों में महिंद्रा ट्रेओ जोर बिक्री के लिहाज से भारत का नंबर 1 इलेक्ट्रिक कार्गो बन गया और उसने अपनी श्रेणी में 59 प्रतिशत की बाजार हिस्सेदारी हासिल की।

अक्टूबर 2020 में लॉन्च महिंद्रा ट्रेओ जोर ने अपनी श्रेणी में बेहतरीन फीचर्स और ग्राहकों के लिए अच्छी बचत के आॅफर के साथ देश में थ्री-व्हीलर कार्गो के बाजार को पूरी तरह बदल दिया। महिंद्रा ट्रेओ जोर लास्ट माइल डिलीवरी इलेक्ट्रिक व्हीकल (ईवी) है जिसे इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर प्लेटफाॅर्म ट्रेओ पर बनाया गया है। पूरे ट्रेओ प्लेटफॉर्म को भारत में ही डिजाइन किया गया है और इसे देश में ही विकसित किया गया है। कंपनी के इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर पोर्टफोलियो में ट्रेओ जोर एक नवीनतम पेशकश है।

महिंद्रा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के सीईओ महेश बाबू ने इस अवसर पर ग्राहकों को धन्यवाद देते हुए कहा, ‘‘ट्रेओ जोर ने महिंद्रा के लिए एक गेम चेंजर की भूमिका निभाई है और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे ग्राहकों ने ई-मोबिलिटी की दिशा में देश के बढ़ते कदमों के साथ अपने कदम मिलाने का फैसला किया है। अपने ग्राहक-केंद्रित डिजाइन और कुशल प्रदर्शन के साथ महिंद्रा ट्रेओ जोर ऐसी बचत की पेशकश करता है, जिसकी उम्मीद ग्राहक लास्ट माइल इलेक्ट्रिक कार्गो वाहन से लगाते हैं। हमें खुशी है कि यह प्रमुख ईकामर्स कंपनियों और उनके फ्लीट ऑपरेटरों के लिए पसंदीदा डिलीवरी वाहन बन गया है। हम अपने सभी ग्राहकों को इस बात के लिए धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने ट्रेओ जोर को चुना और इसे अपने सेगमेंट में नेतृत्व की स्थिति हासिल करने में सक्षम बनाया।’’

उल्लेखनीय है कि महिंद्रा ट्रेओ जोर को हाल ही में आयोजित अपोलो सीवी अवार्ड्स के 12 वें संस्करण के लिए वर्ष के ‘बेस्ट एससीवी आॅफ द ईयर’ अवार्ड से सम्मानित किया गया है। ट्रेओ जोर ने इनोवेशन, बाजार प्रासंगिकता, मूल्य और अन्य की तुलना में वाहन के स्वामित्व की कुल लागत के महत्वपूर्ण मापदंडों पर जूरी को प्रभावित किया। इलेक्ट्रिक व्हीकल के सेगमेंट में महिंद्रा की नवीनतम पेशकश ट्रेओ जोर कंपनी के लिए सफलता का एक नया पड़ाव है और इसने इलेक्ट्रिक व्हीकल को अपनाने की दिशा में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

इसके अतिरिक्त, इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर्स की महिंद्रा ट्रेओ रेंज ने देशभर में 400 जिलों में 8,000 यूनिट्स की बिक्री की है। कुल मिलाकर ट्रेओ रेंज ने भारतीय सड़कों पर 40 मिलियन किलोमीटर की दूरी तय की है और इस तरह 2,200 मीट्रिक टन कार्बन डाईआक्साइड के उत्सर्जन को रोका है, जो 1 लाख पेड़ लगाने के बराबर उपलब्धि है।

महिंद्रा के बारे में

महिंद्रा ग्रुप 19.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर की कंपनियों का फेडरेशन है जो लोगों को आवागमन के नए समाधान, ग्रामीण समृद्धि को बढ़ावा, शहरी जीवन के विस्तार, नए व्यवसायों का पोषण करने और समुदायों को बढ़ावा देने में सक्षम बनाता है। उपयोगी वाहनों, सूचना प्रौद्योगिकी, वित्तीय सेवाओं और वैकेशन के मामले में इसकी स्थिति एक नेतृत्वकारी की रही है और उत्पादों की संख्या के आधार पर यह दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है। महिंद्रा, कृषि व्यवसाय, खाद, वाणिज्यिक वाहनों, परामर्श सेवाओं, ऊर्जा, औद्योगिक उपकरण, रसद, रियल एस्टेट, स्टील, एयरोस्पेस, डिफेंस और टू-व्हीलर में अपनी मजबूत उपस्थिति का भी आनंद उठाता है। भारत में मुख्यालय वाला महिंद्रा 100 देशों के 2,56,000 से अधिक लोगों को रोजगार देता है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar