न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

मूवी रिव्यू : बाला

कहानी: कहानी है बालमुकुंद यानी बाला (आयुष्मान खुराना) की, जो अपने सिल्की और शाइनी बालों को फिर से उगाने की भरपूर कोशिश करता है, लेकिन कुछ फायदा नहीं होता। आखिरकार उसे इसका एक इलाज मिल जाता है, लेकिन इससे उसकी खुशी हमेशा के लिए लौट आएगी?

रिव्यू: ‘बाला’ की शुरुआत बालों की बात से होती है। डायलॉग आता है-हम आपकी खूबसूरती का राज हैं, आपके सिर का ताज हैं।’ बाला की उम्र 25 साल है, लेकिन वह काफी बूढ़ा लगता है। एक तो उसे डायबीटीज है और ऊपर से वह गंजा भी है। हालांकि किसी जमाने में उसके सिर्फ सिल्की और स्मूद बाल थे। लेकिन गंजेपन की वजह से उसके बचपन की दोस्त भी उसे छोड़कर चली गई। नौकरी में भी डिमोशन कर उसे महिलाओं के लिए फेयरनेस क्रीम बेचने का काम दे दिया। लेकिन ‘बाला’ सिर्फ परेशानियों और दुखों से ही नहीं भरी है। बाला अपनी इस समस्या को एक चैलेंज के तौर पर लेता है और फिर वह एक स्टैंड-अप कमीडियन बन बॉलिवुड स्टार्स की नकल करता है। इस दौरान वह अपने बाल दोबारा लाने के लिए तरह-तरह की चीजें इस्तेमाल करता रहता है।

कलाकार : आयुष्मान खुराना, यामी गौतम, भूमि पेडनेकर, जावेद जाफरी, सौरभ शुक्ला
निर्देशक : अमर कौशिक
मूवी टाइप : ड्रामा, कॉमिडी
अवधि : 2 घंटा 9 मिनट

ऐक्टिंग: आयुष्मान पूरी फिल्म में छाए हुए हैं। एक-एक सीन आयुष्मान की दमदार ऐक्टिंग से जीवंत हो पड़ा है। कानपुर की बोल-चाल और हाव-भाव को उन्होंने बड़े ही करीने से अपने किरदार में उतारा है। ऐक्टिंग ऐसी है कि उनके दुख में आप रोएंगे तो सुख में हंसेगे भी। इसका क्रेडिट फिल्म की कहानी, स्क्रीनप्ले और डायलॉग्स को भी जाता है, जिन्हें निरेन भट्ट ने लिखा है।
भूमि पेडनेकर भी वकील के किरदार में खूब जमी हैं। उन्हें भी अपनी सांवली सूरत की वजह से काफी कुछ झेलना पड़ा है। कुल मिलाकर, ‘बाला’ एक लाइट कॉमिडी है, जिसकी परिस्थितियों से हर कोई रिलेट करेगा। फिल्म में कुछ खामियां भी हैं, लेकिन अपने सुंदर मेसेज की वजह से वे खामियां छिप जाती हैं। यह फिल्म पूरी तरह से देखने लायक है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar