न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

नारी तुम केवल देह हो !

नारी तुम केवल देह हो!
कभी किसी ने कहा है तुम से?
तुम बैठो !
आज ठंड बहुत है’
गरमा गरम पकौड़े
मैं तल कर तुम्हें खिलाता हूँ,
हाँ ये अवश्य कहा होगा!
नमक नहीं !
मिर्ची नहीं!
और भाग्य सही रहा तो।
तुम पकौड़े अच्छा बना लेती हो!

नारी तुम केवल देह हो!
किसी ने कहा है तुमसे?
तुम सिर्फ ऊन काटा ही और,
कलछी ही नहीं!
रेल ,ट्रक ,वायु यान,
फाइटर जेट भी
अच्छा ही उड़ा लेती हो!
हाँ ये जरूर कहा होगा कि
औरत जात है
और कितना उड़ेगी
और भाग्य अगर सही रहा तो,
अच्छी कोशिश!!!

नारी तुम केवल देह हो!
किसी ने कहा है तुमसे?
तुम बहुत अच्छा लिखती हो!
बहुत सुंदर रचती हो!
काव्य शिल्प सिद्ध हो
वाक्य विन्यास कौशल अदभुत है।
काव्य कौशल पर कोई बात नहीं।
हाँ ये अवश्य कहा होगा?
चैट कीजिए
फोन नंबर दीजिये
आइ लव यू!
फलना ! ढिमकाना!
किस्मत अच्छी रही तो,
आप कैसी हैं आदरणीय?

नारी तुम केवल देह हो!
किसी ने कहा है तुमसे?
तुम उत्कृष्ट अभियंता हो,
श्रेष्ठ प्रशासक हो!
सर्वोत्तम शिक्षक हो!
प्रखर प्रवक्ता हो !
अपने कार्य क्षेत्र मे सिद्ध हस्त हो।
हाँ ये जरूर कहा होगा कि
तुम्हारी आंखें
तुम्हारे होठ
तुम्हारी जुल्फों. का अंधेरा
सब आकर्षति करती हैं।
तुम्हारा दीवाना हूँ
पागल हूँ
ना जाने और क्या क्या?
किस्मत अगर अच्छी रही तो
बी माई फ्रैण्ड!!!
नारी तुम केवल देह हो!

********

कुमुद “अनुन्जया”
Sahibabad, Ghaziabad, (U. P)201005
[email protected]

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar