National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सस्ते इलाज के अधिकार के प्रति जागरूक हो आमजन :डॉ. सुनीता दुबे

मेडस्केप इंडिया की ‘फिट इंडिया अभियान’ की मुहिम

डॉ.रमेश ठाकुर। विजय न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बाद मेडस्केप इंडिया ने ग्रामीण क्षेत्र में लोगों तक स्वास्थ्य जांच सुविधा पहुंचाने का बीड़ा उठाया है। इसी क्रम में दिल्ली से अभियान की शुरुआत की गई है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में लोगों को जागरुक करने के लिए प्रयासरत संस्था ने इससे पहले मिलियन स्माइल प्रोजेक्ट के तहत छह हजार महिलाओं को सेहतमंद रहने के लिए जागरुक किया है। ग्रामीण क्षेत्र में जहां आसानी से चिकित्सीय सुविधाएं मुहैया नहीं हो पाती है वहां संस्था के कार्यकर्ताओं ने खून जांच, नेत्र जांच, हड्डी जांच सहित कई तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराईं। मेडस्केप इंडिया और आर्यन मेडिकल और एजुकेशनल ट्रस्ट की चेयरपर्सन और रेडियोलॉजिस्ट डॉ. सुनीता दुबे ने बताया कि दिल्ली और उत्तराखंड के बाद हाल ही में राजस्थान के जैसलमेर जिले में फिट इंडिया अभियान की शुरूआत की गई, अहम यह है, रूरल हेल्थ में जहाँ हमारी सख्त जरूरत है, हम वहां अपना योगदान देने की कोशिश कर रहे हैं, हमारी पहली यात्रा के समय हम कुछ ऐसे बहुत से समुदायों व लोगों से मिले जो अपनी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से वाकिफ भी नहीं थे.
यहां हम 76 वर्षीय ऐसी महिला से मिले, जिसने जीवन में एक बार भी किसी डॉक्टर को नहीं दिखाया। बुजुर्ग को मोतियाबिंद की शिकायत थी और सुनने में भी तकलीफ थी, यहां मेडस्केप इंडिया की टीम ने लोगों से बात करके उनकी परेशानी और इलाज संबंधी जरूरतों को समझने की कोशिश की। दूर दूर तक फैले रेगिस्तान में लोगों को उनके घर के दरवाजे पर ही स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने की पहल की, जिससे वह बहुत खुश नजर आए। डॉ. सुनीता ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र को साथ लिए बिना फिट इंडिया अभियान को पूरा नहीं किया जा सकता मिशन की शुरुआत फिट इंडिया की मुहिम को सफल बनाने के लिए केंद्र सरकार और स्थानीय निकायों के सहयोग की भी जरूरत है !

‘फिट इंडिया’ कार्यक्रम में मरीजों को चिकित्सा विज्ञान की जानकारी देती संस्था की प्रमुख डॉ. सुनीता दुबे

गौरतलब है, वर्ष 2015 में फिट इंडिया अभियान की शुरूआत की गई, जिसमें स्वास्थ्य जांच के अलावा अब तक हजारों लोगों को प्राथमिक स्वास्थ्य एवं जीवनरक्षा का भी प्रशिक्षण दिया गया, इसी मुहिम के अंतगर्त वर्ष वेलनेस मिशन 2030 तक दस मिलियन लोगों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है। इससे पहले फिट इंडिया अभियान के मिलियन स्माइल प्रोजेक्ट के तहत छह हजार से अधिक महिलाओं से दिल्ली सहित देश के विभिन्न राज्यों में महिलाओं के विशेष सशक्तिकरण से स्वास्थ्य संबंधी जरूरी जानकारी के साथ ही दवाओं, शिक्षा, आर्थिक, मानसिक और सामाजिक विकास के बारे में भी बताया गया। डॉ. सुनीता ने बताया कि मेडस्केप इंडिया गत पन्द्रह साल से कई अन्य प्रोजेक्ट के साथ ही हम इलाज के अधिकार के बारे में अधिक से अधिक लोगों को जागरुक कर रहे हैं। जिससे किसी के भी साथ इलाज के नाम पर धोखा न हो। मेडस्केप इंडिया पिछले नौ साल से नेशनल अवार्ड के जरिये शहरी चिकित्सकों को सम्मानित भी कर रही है, जिसमें उनके शहरों में किये गए योगदान को सम्मानित किया जाता है। मालूम हो कि संस्था ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का समर्थन करते हुए चिकित्सकों की हैंडराइटिंग के लिए भी एक अभियान 2012 में चलाया, जिसमें चिकित्सको से दवा पर्ची पर स्पष्ट लिखने के बारे में जागरुक किया गया। चिकित्सक समुदाय के बीच प्रचलित मेडिकल एंथेम हम तुम्हारे साथ हैं, डॉ. सुनीता द्वारा ही बनाई गई है, जिसमें डॉक्टरों का आपने मरीजों के लिए अपनी भावनाओं की तरफ प्रेरित करता है, इस अभियान से देश ही नहीं विदेश के भी कई डॉक्टर्स जुड़े है, इसके साथ ही विभिन्न छेत्र से कई जाने माने लोग भी समय समय पर देश को स्वस्थ बनाने में अपना योगदान इस मुहिम में दे रहे है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar