National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

पीएम मोदी ने मतस्य के क्षेत्र में बिहार को दिया बड़ा तोहफा

पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मत्स्य के क्षेत्र में एक बड़ा तोहफा दिया है. पीएम ने आज आत्मनिर्भर भारत के तहत प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना को डिजिटल रूप से लॉन्च किया. इस योजना के तहत सरकार 2025 तक 20,050 करोड़ रुपए खर्च करेगी. ये केंद्र सरकार की तरफ से मत्स्य क्षेत्र में अब तक का सबसे बड़ा निवेश बताया जा रहा है. इस योजना का लाभ 55 लाख लोगों को मिलने वाला है. इसके साथ ही इससे देशभर में मतस्य पालन को भी बढ़ावा मिलेगा. पीएम ने देश को एक और कृषि संबंधित योजना का तोहफा देते हुए ई-गोपाला एप की भी शुरुआत की. इसके अलावा पटना, पूर्णिया, सीतामढ़ी, मधेपुरा, किशनगंज और समस्तीपुर में कई अन्य सुविधाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया. मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि हमारे गांव आत्मनिर्भर बनें और अगली सदी में ब्लू रिवॉल्यूशन का असर दिखे. प्रधानमंत्री मत्स्य संप्रदा योजना इसी को ध्यान में रखकर बनाई गई है. अगले पांच साल के दौरान इसमें 20 हजार करोड़ से अधिक खर्च किए जाएंगे. इनमें से आज 1700 करोड़ रुपयों का काम शुरू हो गया है.

पीएम ने की सीएम नीतीश की तारीफ
पीएम ने सीएम नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा कि उन्‍होंने गांव-गांव पानी पहुंचाने का प्रशंसनीय काम किया है. कोरोना के संक्रमण काल में भी 60 लाख से ज्यादा लोगों को नल का पानी दिलवाना सुनिश्चित किया गया है. उन्होंने कहा कि यह हमारे गांवों की ताकत है कि कोरोना संक्रमण के बावजूद अनाज, फल और दूध समेत अन्‍य जरूरी चीजों की सप्लाई नहीं रुकी.

पीएम ने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने भी विपरीत परिस्थिति के बावजूद बिहार के 75 लाख किसानों को किसान सम्मान योजना का लाभ दिया. साथ में हम गांवों में महामारी को कम रखने में सफल हुए हैं.
इससे पूर्व बिहार के सीएम नीतीश ने कुमार ने भी मतस्य के क्षेत्र में सूबे में की जा रही कार्यों की चर्चा की. उन्होंने कहा कि बिहार में पहले पशुपालन और कृषि की पढ़ाई करने के लिए छात्र बाहर चले जाते थे, पर अब विश्वविद्यालयों की स्थापना हुई है, जिससे छात्र को लाभ हुआ है उन्होंने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि जनता ने हमें काम करने के लिए चुना है, इसलिए हमलोग हर क्षेत्र में काम कर रहे हैं. कृषि के क्षेत्र में भी व्यापक तौर पर काम हुआ है, लेकिन कुछ लोग बिना काम देखे ही बस सिर्फ बोलते ही रहते हैं. इस दौरान कार्यक्रम में बिहार के राज्यपाल फागु चौहान, सीएम नीतीश कुमार, केंद्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी भी उपस्थित रहे.

 

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar