National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

कविता : दूरी की कीमत

दूरी की कीमत


हम लोगों के बीच आज ये जो दूरी है
कोरोना के खात्मे के खातिर
बेहल जरूरी है।
कुछ दिनों तक शांत बैठो
दवा बनाने की प्रक्रिया अभी अधूरी है।
अभी फासला कायम रखें
फिर चाहें तो गले मिलें
मगर अभी मजबूरी है।
डॉक्टरों की मेहनत फलेगी
भारत में ही इसकी दवा बनेगी।।

राकेश दहिया, शिक्षक,
सर्वोदय बाल विद्यालय प्रहलादपुर बांगर, दिल्ली-110042

Print Friendly, PDF & Email