National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

कविता : फाल्गुन के महीना

आई गइले फाल्गुन के महीना
हो रामा,
खुश सब लोगवा।
केहू हाथे अबीर गुलाल,
केहू हाथे पिचकारी हो रामा,
खुश सब लोगवा।
सजनी हाथे अबीर गुलाल,
वाल्म हाथे पिचकारी हो रामा,
खुश सब लोगवा।
केइ लगावे अबीर गुलाल,
केइ पडावे ला रंगवा हो रामा,
खुश हो सब लोगवा।
सजनी लगावे अबीर गुलाल,
वाल्म पड़ावे ला रंगवा हो रामा।
खूश सब लोगवा।
केइ गावे फाल्गुन गीतवा,
केइ गावे जोगिरा हो रामा।
खुश सब लोगवा।
गोरी सबे गावेली फाल्गुन गीतवा,
साजन लोग गावेला जोगीरा हो रामा।
खुश सब लोगवा।
केइ बजावे ढोलक झाल,
केइ बजावे मृदंग मंजीरा हो रामा।
खुश सब लोगवा।
बच्चा सबे बजावेला ढोलक झाल,
बुढा सबे बजावे मृदंग मंजीरा हो रामा।
खुश सब लोगवा।
आई गइले फाल्गुन के महीना हो रामा।
खुश सब लोगवा।

गोपेंद्र कुमार सिन्हा गौतम
देवदत्तपुर दाऊदनगर
औरंगाबाद बिहार
824113
WhatsApp 95 0 7 341433

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar