National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

कविता : …दो

कुछ हम , कुछ तुम सह जाने दो ।
इस नफरत में नफरत छोड़ रह जाने दो ।
हिंसा को अब तो राह मोड़ जाने दो।
देश अखण्ड है बस अखण्ड रह जाने दो ।

हिन्दू , मुस्लिम की लहू में ,
अब जरा भी भेद ना होने दो ।
सब हैं इस माँ के लाल ,
अब जरा भी विभेद ना होने दो ।।

मनकेश्वर महाराज “भट्ट”
मधेपुरा , बिहार

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar