National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

कोरोना के चलते प्रयागराज की कुछ मस्जिदों मे जुमे की नमाज स्थगित

विजय न्यूज़ नेटवर्क
प्रयागराज। कोरोना वायरस के फैलाव के चलते शहर मे मुसलमानों के एक वर्ग ने जुमे की नमाज नही पढ़ी।जुमे के दिन होने वाली भारी को देखते हुए चक स्थित शिया जामा मस्जिद में मौलाना हसन रज़ा ज़ैदी ने और करामत की चौकी करैली में मस्जिद बीबी खदीजा मे मौलाना रज़ी हैदर ने पहले ही विभिन्न माध्यमों से जुमे की नमाज न होने का ऐलान कर दिया था।उम्मुल बनीन सोसाईटी के महासचिव सै०मो०अस्करी के मुताबिक़ लखनऊ के शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद नक़वी की पहल पर प्रयागराज के चक स्थित शिया जामा मस्जिद में मौलाना हसन रज़ा ज़ैदी ने प्रातः मैसेज भेज कर लोगों को आगाह कर दिया था की इस जुमा और अगले जुमा को जामा मस्जिद चक में बा जमात नमाज़ नहीं अदा की जाएगी। उनहोने कोरोना वॉयरस के महामारी का रुप ले लेने को आधार मानते हुए लोगों से सतर्कता बरतने का भी आहवाहन किया।वहीं करामत की चौकी करैली में मस्जिद बीबी खदीजा मे मौलाना रज़ी हैदर की क़यादत में होने वाली जुमे की नमाज़ को मुलतवी कर घरों में नमाज़ अदा करने की हिदायत दी।मस्जिद के केयर टेकर आमिर रिज़वी ने भी प्रातः ही लोगों को इस सम्बन्ध मे मैसेज द्वारा आगाह कर दिया था।बहादुरगंज साबुनगढ़ मस्जिद में क़ारी फैज़ान ने नमाज़ अदा कराने के बाद अपने खुतबे में कोरोना वॉयरस से लोगों को बचने के लिए ऐहतीयात बरतने के साथ साफ सफाई व मास्क लगाने की ताकीद की।

उधर विधी छात्र की संस्था एक सोच की ओर से कोरोना वॉयरस से बचाव के लिए हाईकोर्ट चौराहा,करैली की मलिन बस्ती रौशनबाग़ के व्यापारीयों को महामारी का रुप ले चूके कोरोना वॉयरस के प्रति जागरुक करते हुए मास्क,डिटौल,साबुन बाँटा गया।कोरोना वॉयरस को लेकर लगातार स्वास्थ विभाग,केन्द्र व उ०प्र०सरकार की तरफ से एडवाईज़री जारी कर सभी शिक्षण संस्थानो को ३अप्रैल तक बन्द रखने और सभी तरहा की परिक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है।उच्च न्यायालय ने भी भीड़ भाड़ वाले किसी भी तरहा के आयोजन को स्थगित करने को कहा है।मॉल,जिम,शादी घर को भी एडवाईज़री जारी कर बन्द रखने की बात कही गई है।मोहम्मद अस्करी ने कहा कि शहर के कुछ कान्वेन्ट स्कूल फरमान की अन्देखी करते हुए शिक्षक और शिक्षिकाओं को प्रतिदिन बुला रहे हैं।जबकि प्रशासन द्वारा १५ की संख्या वाले सरकारी या ग़ैर सरकारी कार्यालयों के कर्मचारियों को घर बैठ कर कार्य सम्पादित करने को कहा गया है।सवाल उठता है की शिक्षक व शिक्षिकाएँ जो कार्य घर बैठ कर भी सम्पादित कर सकती है तो फिर क्यूं उनको स्कूलों में जाने से नहीं रोका जा रहा।श्री अस्करी ने कान्वेन्ट स्कूलों व कोचिंग संस्थानों की मनमानी को रोकने की ज़िला प्रशासन से मांग की है। कहा हमेशा की तरहा कान्वेन्ट स्कूल संचालक कोरोना वॉयरस के संक्रमण और महामारी का रुप ले चूके इस आपदा के प्रति गम्भीर नहीं हैं। इनकी मनमानी के कारण संक्रमण को फैलने से रोकने में यह संचालक लोगों की परेशानी का सबब न बन जाएँ इस से पहले इन पर अंकुश लगाने की आव्यश्कता है।

Print Friendly, PDF & Email