National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

बीमार दिल के संकेतों को पहचानें

हमारी सांसे चलती रहें, इसके लिए हमारे दिल का धडक़ना बहुत जरूरी है। लेकिन आज बढ़ते तनाव, घटती शारीरिक सक्रियता और खानपान की गलत आदतों ने दिल को बीमार बना दिया है। इससे विश्वभर में हृदय रोगों के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। हमारे देश में होने वाली कुल मौतों में से एक-तिहाई दिल की बीमारियों की वजह से होती हैं। हृदय की सभी समस्या चेतावनी वाले संकेतों के साथ नहीं आतीं कुछ लक्षण तो हृदय और छाती में होते ही नहीं हैं। इसलिये शरीर के अन्य भागों में होने वाले बदलावों और लक्षणों को भी पहचानना जरूरी है, ये दिल के बीमार होने के कारण हो सकते हैं।

हृदय रोगों के प्रारंभिक संकेत
कईं बार हृदय रोगों के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते, कुछ लोगों में बड़े मामूली लक्षण दिखते हैं, तो कभी-कभी ऐसा भी होता है कि जो लक्षण दिखाई देते हैं उन्हें हम किसी और स्वास्थ्य समस्या के समझकर नजरअंदाज कर देते हैं। ऐसे में जरूरी है कि उन संकेतों के बारे में जानें जो हृदय के बीमार होने की ओर इशारा करते हैं।

छाती में बेचौनी और भारीपन महसूस होना
यह हृदय के बीमार होने का सबसे सामान्य संकेत है। धमनियां ब्लॉक होने या हार्ट अटैक आने पर छाती में दर्द होना, जकडऩ या दबाव महसूस होता है। छाती में जलन और चुभन भी महसूस हो सकती है।

छाती में दर्द के साथ सांस फूलना
अगर आप अचानक बैचेन हो जाएं, छाती में दर्द महसूस हो और आपकी सांस फूलने लगे, तो ये खतरे का संकेत हो सकता है। ये इस कारण हो सकता है कि आपका रक्तदाब बहुत कम हो गया है और आपका हृदय उतना रक्तपंप नहीं कर पा रहा है, जितना उसे करना चाहिए।

अत्यधिक पसीना आना
वैसे पसीना आना कोई बीमारी या बुरी बात नहीं है, लेकिन अगर आप बेतहाशा पसीना आने से पीडि़त हों तो डॉक्टर से संपर्क करें, ये हृदय के बीमार होने का एक लक्षण हो सकता है।

लगातार चक्कर आना, थकान या कमजोरी
अगर आपको लगातार चक्कर आएं तो इसे सिर्फ थकान या कमजोरी न मानें। अच्छा खाने और भरपूर सोने के बाद भी थकान महसूस हो तो इसे हल्के में न लें। धमनियां ब्लॉक होने से भी यह समस्या हो जाती हैं।

बांहों का सुन्न हो जाना
जब छाती में होने वाला दर्द बायें हाथ से होता हुआ पूरे बांये भाग में फैल जाए तो ये हार्ट अठैक का लक्षण हो सकता है। लेकिन कईं लोगों में हार्ट अटैक के दौरान केवल बायीं भुजा में दर्द और सुन्नपन महसूस होता है।

बोलने में जबान लडख़ड़ाना
बोलने में जबान लडख़ड़ाना यह भी हार्ट अटैक का गंभीर लक्षण हो सकता है।

हृदय की धडक़नें आसामान्य हो जाना
नींद पूरी न होने, कैफीन का अधिक मात्रा में सेवन करने या अत्यधिक शारीरिक श्रम करने से अगर हृदय की धडक़ने तेज हो जाएं तो घबराने की कोई बात नहीं है, लेकिन अगर लगातार ये समस्या बनी रहे तो सतर्क हो जाएं।

जी मचलना, अपच, हार्ट बर्न या पेट में दर्द
कुछ लोगों में हार्ट अटैक के दौरान जी मचलना, अपच, हार्ट बर्न या पेट में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं, उन्हें उल्टियां भी होती हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ये लक्षण अधिक दिखाई देते हैं। इस तरह के लक्षण दूसरी स्वास्थ्य समस्याओं में भी दिखाई देते हैं, लेकिन आपको पता होना चाहिए कि ऐसा हार्ट अटैक के कारण भी हो सकता है।

गले या जबड़ों में दर्द होना
हम में से अधिकतर लोग, गले या जबड़े में दर्द को हृदय रोगों से जोडक़र नहीं देखते लेकिन अगर छाती में होने वाला दर्द गले या जबड़ों तक पहुंच जाए तो ये हार्ट अटैक के कारण हो सकता है।

पंजे, पैर और टखनों का सूज जाना
पंजों, टखनों और पैरों में सूजन इस बात का संकेत है कि आपका हृदय उतने प्रभावकारी तरीके से रक्तपंप नहीं कर रहा जितना उसे करना चाहिए। अगर हृदय धीमी गति से रक्तपंप करता है तो शिराओं में रक्तआगे बढऩे की बजाए पीछे की ओर खींचता है जिससे सूजन की समस्या होती है। हार्ट फेलियर के कारण भी ये समस्या हो सकती है, क्योंकि ऐसी स्थिति में किडनी के लिए शरीर से अतिरिक्तपानी और सोडियम को निकालना कठिन हो जाता है, जो सूजन का कारण बन जाते हैं।

लगातार खांसी आना
वैसे खांसी की समस्या श्वसन तंत्र से जुड़ी है, अधिकतर मामलों में हृदय रोगों से इसका कोई संबंध नहीं है। लेकिन, अगर लंबे समय खांसी की समस्या बनी रहे जिसमें सफेद या गुलाबी कफ निकले तो ये हार्ट फेलियर का संकेत हो सकता है।

यूरीन कम आना
हार्ट फेलियर, किडनी को भी प्रभावित करता है और उसकी फिल्टरिंग कैपिसिटी कम हो जाती है। यूरीन कम आना या उसकी फ्रिक्वेसी कम हो जाना हृदय के फैल होने का संकेत हो सकता है।

डा. एस.एस. सिबिया
निदेशक
सिबिया मेडिकल सेंटर
लुधियाना

Print Friendly, PDF & Email
Translate »