National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सचदेवा ग्रुप कालकाजी : लालच देकर की करोड़ों की ठगी, नवीन सचदेवा अब पहुंचा जेल

पुलिस ने बताया कि आरोपी ने 2013 में कालका जी इलाके में सचदेवा ग्रुप नाम की एक फर्जी फाइनेंस कंपनी खोली थी. जिसके बाद से ही वो गरीब और कम पढ़े हुए लोगों को अपना निशाना बनाता था और लुभावनी स्कीम और ऑफर का लालच देकर उनसे पैसे हड़प लेता था.

आरोपी नवीन सचदेवा

नई दिल्ली। लोधी कॉलोनी थाना पुलिस ने करोड़ों रुपये की ठगी के आरोपी को उसके कर्मचारी के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी नवीन सचदेवा फाइनेंस कंपनी चलाता है और अधिक ब्याज का लालच देकर गरीबों से पैसे जमा कराता था। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा आरोपी को पहले भी गिरफ्तार कर चुकी है। जेल से बाहर आते ही उसने फिर से लोगों को ठगना शुरू कर दिया था।
दक्षिण जिला डीसीपी अतुल कुमार ठाकुर के अनुसार एक महिला ने शिकायत दी थी कि सुधीर प्रकाश नाम के युवक ने उससे 136000 रुपये ठग लिए हैं। पीड़िता ने ये पैसे 2016 से लेकर मार्च 2020 तक एफडी के नाम पर हर रोज जमा कराए थे। जांच में पुलिस को पता चला कि इसी तरह 25 और लोगों के साथ ठगी की गई है। पीड़ित, नवीन सचदेवा के रामजीलाल कॉप्लेक्स, कालकाजी स्थित कार्यालय में भी गए, लेकिन रुपये नहीं मिले। केस दर्जकर एसीपी कुलवीर सिंह की देखरेख में थानाध्यक्ष सुनील कुमार, एसआई सौरभ और पीएसआई दीपेंद्र ने जांच शुरू की। पुलिस टीम ने नवीन सचदेवा के लिए काम करने वाले संगम विहार निवासी सुधीर प्रकाश शर्मा को मेहर चंद मार्केट से गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद नवीन को कालकाजी से पकड़ा। बताया जा रहा है कि आरोपी की पत्नी भी ठगी में उसका साथ देती है। पुलिस के अनुसार आरोपी ने 2013 में एक फाइनेंस कंपनी खरीदी और ज्यादा ब्याज का लालच देकर लोगों से रुपये जमा कराने लगा। आरोपी के खिलाफ पहले से ही चार आपराधिक मामले दर्ज हैं। आरोपी का नेटवर्क कई राज्यों में फैला है। उसके खिलाफ गुरुग्राम, मुंबई व दक्षिण भारत में केस दर्ज हैं।

विजय कुमार दिवाकर
नई दिल्ली। साउथ दिल्ली (South Delhi) में पुलिस ने एक ऐसे जालसाज को गिरफ्तार किया है जो अवैध फाइनेंस कंपनी बनाकर झुग्गियों में रहने वाले लोगों को अपना शिकार बना रहा था और दिन रात मेहनत करके कमाए उनके पैसों को हड़प रहा था. पुलिस (Delhi Police) ने आरोपी की गिरफ्तार के बाद धोखाधड़ी के 30 केसों का खुलासा हुआ है. पुलिस ने बताया कि आरोपी ने 2013 में कालका जी इलाके में सचदेवा ग्रुप नाम की एक फर्जी फाइनेंस कंपनी खोली थी. जिसके बाद से ही वो गरीब और कम पढ़े हुए लोगों को अपना निशाना बनाता था और लुभावनी स्कीम और ऑफर का लालच देकर उनसे पैसे हड़प लेता था. आरोपी ने बताया कि इस काम को करने के लिए उसने अपने कुछ साथियों को भी धंधे में शामिल किया था. ये लोग झुग्गियों में जाकर लोगों से मिलते थे और अपनी कंपनी में छोटी-छोटी रकम एफडी (FD) के रूप में जमा करा लेते थे. उन्होंने बताया इस स्कीम के तहत 100 रुपये रोज के हिसाब से रकम जमा करने होते थे. जिस पर 15 प्रतिशत ब्याज भी देने का झांसा ये लोगों को दिया करते थे. साल पूरा होने पर 41,400 रुपये रिटर्न्स देने का लालच भी देते थे. पुलिस के मुताबिक करोड़ो रुपये की चीटिंग के बाद आरोपी ने ऑफिस ओर अपना फोन बंद कर लिया और लोगों को पैसे वापस देने से मना कर दिया. जिसके बाद शिकायत पर पुलिस ने इस गैंग की तलाश शुरू की थी. फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ कर ये पता लगाने में जुटी है कि पिछले 7 सालों को कितने गरीबों को अपना शिकार बनाया है.

नेता, पुलिसकर्मियों को भी ठगा
पुलिस के अनुसार आरोपी नवीन सचदेवा कई हजार लोगों के साथ करोड़ाें रुपये की ठगी कर चुका है। आरोपी फिलहाल गरीबों को ठग रहा था, लेकिन पूर्व में कई पुलिसकर्मी व नेताओं को भी चूना लगा चुका है। ये लोगों को फंसाने के लिए आए दिन पार्टी करता। लोग झांसे में पैसा दे देते थे। खास बात ये है कि कोई पैसा वापस मांगता था तो आरोपी आयकर विभाग में सूचना देकर पीड़ितों को नोटिस भिजवाता था।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar