न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

स्वर्ग सी हो दुनिया सारी

कवि की है ईच्छा प्यारी ,

कि स्वर्ग सी हो दुनिया सारी
व्यवहार किसी का रुखा न हो ,
कोई नंगा-भूखा न हो
गम में कोई न रोए ,
कोई फुटपाथ पर न सोए
बूढे़ न खींचे ठेलागाडी़
स्वर्ग सी हो दुनिया सारी
नफरत का प्रचार न हो
कोई गरीब लाचार न हो
बच्चे भूखे नंगे न हो
झगड़े या दंगे न हों
न जानलेवा हो बीमारी
स्वर्ग सी हो दुनिया सारी
अपराधों की रीति न हो
लाशों पर राजनीति न हो
जीते न कोई भ्रष्टाचारी
स्वर्ग सी हो दुनिया सारी
यहां फर बाल विवाह न हो
कोई भी यहां गुमराह न हो
गांजे-भांग सा व्यसन न हो
शराब का प्रचलन न हो
न हो कोई भी व्यभिचारी
स्वर्ग सी हो दुनिया सारी
मानवता भूला मानव न हो
दहेजलोभी दानव न हो
न लोभ मोह की प्यास हो
सबको ईश्वर पर विश्वास हो
सब ईश्वर के हों आभारी
स्वर्ग सी हो दुनिया सारी
विक्रम कुमार
मनोरा, वैशाली
Print Friendly, PDF & Email
Tags:
Skip to toolbar