National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Tag: artical by R K sinha

Total 32 Posts

सबक सिखानी होगी पाक जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को

न चाहते हुए भी यह कहने का मन कर रहा है कि अब भारत तेजी से बदल रहा है। अब अपने देश में ‘पाकिस्‍तान जिंदाबाद’ कहने वालों की तादाद भी

इनकम टैक्स देना शान के खिलाफ क्यों ?

अब यह कहने का मन करने लगा है कि हम हिन्दुस्तानियों को अपना इनकम टैक्स अदा करने में बड़ा ही कष्ट होता है। चूंकि, नौकरीपेशा लोगों का टैक्स तो उनकी

ट्रंप की भारत यात्रा- अब भारत, अमेरिका, इजराईल मिलकर कुचले इस्लामिक आतंकवाद को

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आगामी सप्ताह शुरू हो रही भारत यात्रा के दौरान उनकी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अन्य भारतीय नेताओं के साथ आपसी और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर बेबाकी

कैसे कोई कंपनी छूने लगती हैं बुलंदियों को

निश्चित रूप से हम सबने देश की कॉरपोरेट संसार की प्रमुख कंपनियों जैसे रिलायंस, टाटा, बिड़ला, विप्रो, एचसीएल वगैरह के नाम सुने हैं। पर जरा बताइये कि हमसे कितने लोगों

शाहीन बाग वाला कपिल गुर्जर और वो स्याही फेंकने वाला

कपिल गुर्जर का सच अब तो अब सबके सामने है। वही कपिल जिसने राजधानी के शाहीन बाग में गोली चलाकर तहलका मचा दिया था। दिल्ली पुलिस ने अपनी सघन जांच

रोजगार बढ़ानेवाला बजट

निश्चित रूप से मोदी सरकार के साल 2020-21 के आम बजट की गहन समीक्षा करने के बाद कोई भी तटस्थ अर्थशास्त्री भी मानेगा कि इस बजट का मोटा-मोटी फोकस देश

कितने पवित्र रह गए धरने-प्रदर्शन

जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में छात्रों के बीच हुई हालिया झड़प पर पाकिस्तान के शहर लाहौर में प्रदर्शन का होना सच में हर किसी को हैरान करने वाला है। वहां

शाहीन बाग में धरना देने वाले अब घेरे पाक एंबेसी को

पाकिस्तान में उपद्रवी भीड़ ने पिछले शुक्रवार को ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर जिस तरह से पत्थरबाजी की उससे समूचे भारत में और विश्व भर के सिख समुदाय में उदासी और

तो झारखंड चुनावों के बाद सही हो गई सभी ईवीएम मशीनें

झारखंड विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद अचानक सारी की सारी ईवीएम यानी इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनें सही हो गईं। उससे पहले पंजाब, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छतीसगढ़ विधान सभा

शिक्षा का केंद्र या अपराधियों का संरक्षण स्थल जामिया

नागरिकता बिल पर राष्ट्रपति की मुहर लगने के बाद से ही नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। बिलकुल सुनियोजित और प्रायोजित कार्यक्रम की भांति दिल्ली के

क्यों भारत आ गया था जिन्ना का हिन्दू मंत्री

नागरिकता संशोधन बिल पर संसद के दोनों सदनों में गहन चर्चा के बाद इसे पारित कर दिया गया। अब राष्ट्रपति ने भी इस पर मोहर लगा दी है। यानी इसने

क्यों हुआ जेएनयू में स्वामी विवेकानंद का अनादर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और फीस बढ़ोतरी के विरोध की आड़ में टुकड़े टुकड़े गैंग एकबार फिर से सक्रिय हो गया है। जेएनयू में फीस

राम मन्दिर पर क्यूँ बटे शिया और सून्नी मुसलमान ?

राम मन्दिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने देश के मुसलमानों को ही बांट दिया। हालाँकि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले सभी मुसलमान यही कह रहे थे कि उन्हें

मुसलमानों के कर्णधार कब  हक देंगे औरतों और पसमांदाओं को

भारत में औरतों को  जीवन के हर क्षेत्र में समता दिलवाने का सपना पूरा होने में अभी वक्त लगेगा।  हालांकि गुजरे कुछ दशकों के दौरान औरतों ने बहुत सारे अवरोधों

सकारात्मक संकेत दे गई दीवाली

दीवाली का पर्व तो खुशी-खुशी देश ने मना ही लिया। कोई बड़ी दुर्घटना नहीं हुई I इसने यह भी ठोस संकेत दे दिए कि अभी भी करोंड़ों हिन्दुस्तानियों की जेब

कितनी बार भारत से मार खाएगा पाक

इमरान खान के पाकिस्तान को भारत से बार-बार मार-खाने की आदत सी पड़ गई है। अब भारतीय फौजें पाकिस्तानियों को उसके घर में घुसकर मारती है। वह तो अब जूते

कॉलेज तो खोला नहीं, क्यों खोल रहे विश्वविद्लाय केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली की जनता से अब इस तरह के वादे करने लगे हैं जिन्हें सुनकर गुस्सा कम और हंसी ज्यादा आती है। दिल्ली में विधानसभा चुनाव

तो अब मुसलमान पहल करेंगे राम मंदिर का

जब अयोध्या में विवादित ढांचे के स्वामित्व के सवाल पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई अपने अंतिम चरण में पहुंच चुकी है। तब कहीं जाकर इस जटिल मसले पर

एक करोड़ पेड़ तो काट डाले और कितने काटेंगे ?

दुर्भाग्यवश हमारे देश के नौकरशाहों को अभी तक यह समझ ही नहीं आया कि है कि नई निर्माण परियोजनाओं पर काम करते हुए उन स्थानों पर पहले से लगे हुए

तो इस तरह कश्मीर होगा पर्यटकों से गुलजार

देश –विदेश के जो पर्यटक जम्मू-कश्मीर में घूमना चाहते हैं, अब उन्हें और इंतजार नहीं करना होगा। वे अब कश्मीर आ सकते हैं। सरकार ने विगत 2 अगस्त को अमरनाथ

बापू के सपनों को पूरा करते मोदी

दिल्ली की 29 जनवरी 1948 की उस कड़कती सर्दी की रात में महात्मा गांधी ने लगभग रातभर जगकर अपनी इच्छा जाहिर की थी कि अब आज़ादी का आन्दोलन तो समाप्त

Skip to toolbar