न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

Tag: Balmukund Ojha

Total 21 Posts

भीख, भिक्षा और दान

आज कल भिक्षावृत्ति की समस्या दिनों-दिन जटिल होती जा रही है। कुछ लोग तो अशक्त होने पर भीख मांगने पर मजबूर होते हैं। तीर्थ स्थानों, धार्मिक स्थलों, मंदिरों में तो

बच्चे से बुजुर्ग तक वायु प्रदूषण से आहत

वायु प्रदूषण का खतरा अब घर घर मंडराने लगा है। देश और विदेशों की विभिन्न ग्लोबल एजेंसियों द्वारा वायु प्रदूषण के खतरे से बार बार आगाह करने के बावजूद न

तम्बाकू उत्पादों के सेवन पर कानूनी लगाम

देश में हर वर्ष तंबाकू उत्पादों के सेवन से होने वाली विभिन्न बीमारियों की वजह से करीब 10 लाख लोगों की अकाल मौतों और तम्बाकू के दुष्परिणामों को देखते हुए

बच्चों के विकास सूचकांक में गिरावट

मोदी के शासन का यह दूसरा कार्यकाल है। इन छह वर्षों में लगातार कहा गया की भारत खुशहाली के मार्ग पर निरंतर आगे बढ़ा है। मगर संयुक्त राष्ट्र से जुड़ी

जुड़वाँ भाई है शराब और अपराध

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने शराब को सभी पापों की जननी कहा है। गांधीजी कहते हैं शराब शारीरिक, मानसिक, नैतिक और आर्थिक दृष्टि से मनुष्य को बर्बाद कर देती है। शराब

सरकारी बंगलों पर अवैध कब्जे मुफ्त का चन्दन घिस मेरे नंदन

दिल्ली हाईकोर्ट ने राजधानी में 576 सरकारी बंगलों पर रिटायर्ड अधिकारियों और पूर्व सांसदों के अवैध कब्जे को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाई है

खुशियों का खजाना है परिवार

परिवार एक बार फिर वैश्विक चर्चा का विषय बन गया है। मीडिया में आरही खबरों के अनुसार जनसँख्या विस्फोट, शहरीकरण और सोशल मीडिया को एक हद तक परिवार के विखंडन

बढ़ती बेरोजगारी दुनिया के लिए खतरे की घंटी

रोजगार के लिहाज से विश्व के लिए यह साल निराशाजनक साबित हो सकता है। एक वैश्विक रिपोर्ट में विश्व में अर्थव्यवस्था की सुस्ती के फलस्वरूप बेरोजगारी के आंकड़ों में चैंकाने

गालियों की गंगा में डुबकी लगाने की प्रतियोगिता

देश में नागरिकता अधिनियम और जनसंख्या रजिस्टर को लेकर बयानबाजी बेकाबू होती जा रही है और नेताओं के बोल जहरीले होते जा रहे हैं। राजनीति की इस फिजां में कहीं

मोदी करेंगे महंगाई से दो-दो हाथ

भारत की राजसत्ता दूसरी बार सँभालने के बाद भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लगता है महंगाई से दो दो हाथ करने पड़ रहे है। जन साधारण को फिलहाल

अर्थव्यवस्था की मजबूत बुनियाद पर सरकार आशान्वित

भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर देशी और वैश्विक संस्थाओं के दावों और प्रतिदावों के बीच भारत सरकार को अभी भी आशा है की हमारी अर्थव्यवस्था मजबूत है और इसे स्थिरता

ऑस्ट्रेलिया के दावानल ने दी ग्लोबल वार्मिंग की चेतावनी

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में पांच माह से लगे दावानल ने दुनिया को ग्लोबल वार्मिंग के महाखतरे से आगाह कर दिया है। वहां लगी आग बुझने का नाम नहीं ले रही

संवादहीनता ने उजाड़ी परिवार की खुशियां

सियासी प्रगति की अंधी दौड़ में हमने दुनिया को अवश्य अपनी मुट्ठी में कर लिया है मगर संवादहीनता के चलते परिवार नामक संस्था से विमुख होते जा रहे है। इसी

दुनिया ने समझा तम्बाकू के दुष्परिणाम

वैश्विक संगठन खानपान, मिलावट, नशा, गरीबी, कुपोषण, पर्यावरण और स्वास्थ्य सम्बन्धी विभिन्न दुष्परिणामों से देश और दुनिया को समय समय पर चेताता और जगाता रहता है। संयुक्त राष्ट्र संघ के

घूंघट शोषण का प्रतीक है या मर्यादा का

घूंघट इज्जत और शर्म का प्रतीक है या गुलामी का इस पर देशव्यापी बहस शुरू हो गई है। भारत में शैक्षिक क्रांति के बाद महिलाएं घूंघट से बाहर निकली मगर

भूजल का गिरता स्तर चिंता का सबब

तेजी से गिरता भूजल स्तर दुनियाभर के लिए चिंता का सबब बना हुआ है। भूजल का अनियंत्रित और अंधाधुंध दोहन होने से स्थिति और भी भयावह हो गई है। भारत

विश्व एड्स दिवस : जागरूकता ही बचाव है

विश्व एड्स दिवस हर साल 1 दिसंबर को मनाया जाता है। इसे मनाए जाने का मुख्य मकसद लोगों को एचआईवी संक्रमण से होने वाली बीमारी एड्स के बारे में जागरूक

खतरे में है टीनएजर्स की सेहत

विश्व स्वास्थ संगठन ने अपने एक ताजा अध्ययन में चेतावनी दी है कि अगर टीनएजर्स शारीरिक गतिविधियों में हिस्सेदारी नहीं लेंगे तो इनके स्वास्थ पर बुरा असर पड़ेगा। द लांसेट

महाराष्ट्र में भाजपा ने शिवसेना को पछाड़कर सत्ता का ताज कब्जाया

महाराष्ट्र की सियासत ने सबको हैरत में डाल दिया है। हालांकि देश की सियासत में पहले भी ऐसे चैंकाने वाली घटनाएं सामने आयी है जिसने सबको हैरान कर दिया था।

उत्तर भारत में मौसमी बीमारियों की दस्तक

मौसम परिवर्तन और बीमारियों का चोली दामन का साथ है। नवम्बर का महीना शुरू होते होते मौसम भी करवट लेता है। यह सर्दी की शुरुआत और गर्मी की विदाई का

सड़कों ने उधेड़ी विकास की परत

सड़कों का देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान है। सड़कों का आधारभूत ढांचा हमारी अर्थव्यवस्था का सुदृढ़ आधार है। राजस्थान में आजादी के बाद तेजी से परिवहन मार्गों का

Skip to toolbar