National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Tag: parbhu nath shukl

Total 18 Posts

मुम्बई बोले तो बिंदास , चलेगी अख्खी रात !

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने मुम्बई को और जिंदादिल बनाने के लिए ‘नाइट लाइफ’ की शुरुवात की है यानी ‘आमची मुम्बई , आमची नाइट लाइफ’। मुम्बई वैसे भी दिन- रात

दक्षिण – वाम के झगड़े में गाँधी- नेहरू और पटेल का विभाजन ?

संविधान के मूल में अभिव्यक्ति की आजादी को पूरी तवज्जों दी गई है। सवाल तब उठता है जब विचारों की आजादी हाथ में पत्थर उठा ले। बेगुनाह लोगों की माब

व्यंग : खुदाई में अपन का डिक्टेंशन

खुदाई हमारी संस्कार में रची बसी है। हमारे पुरखों की यह विरासत रही है। खुदाई की वजह से हमने ऐतिहासिक सभ्यताएं हासिल की हैं, जिनका महत्व हमारी इतिहास की मोटी-मोटी

भाजपा की खींसकती ज़मीन, राज्यों में गंवाती सत्ता !

लोकतंत्र में जनता और उसके जनादेश का नजरिया कभी स्थाई नहीं होता। सरकारें अगर जनता के विश्वास पर खरी नहीं उतरती तो उन्हें अपनी सत्ता गंवानी पड़ती है। ऐसी स्थिति

अल्पसंख्यकों पर चीन की दमनकारी नीति

पाकिस्तान दुनिया में मुस्लिम हिमायती होने का दंभ भरता है। लेकिन आंखमूंद पर चीन पर भरोसा करने वाला पाकिस्तान चीन में अल्पसंख्यक समुदाय पर होने वाले दमन पर मुंहबंद रखता

पश्चिम बंगाल में विलुप्त होती विचारों की राजनीति

पश्चिम बंगाल की राजनीति में हिंसा और रक्तपात पुरातन संस्कृति रही है। इस तरह की हिंसायें क्यों होती हैं और कौन कराता है। हिंसा के पीछे मकशद क्या होता यह

काशी में अजन्मी बेटियों का तर्पण

महादेव की पुण्य नगरी काशी से पितृपक्ष में सकारात्मक खबर आयी है। सामाजिक संस्था आगमन ने दशाश्वमेध गंगा घाट पर सोमवार को यानी मातृनवमी के दिन उन अजन्मी बेटियों के

व्यंग्य : हे ! कागदेवः पितृपक्षे नमस्त्तुभ्यम्

हे! कागदेव। पंक्षी योनी के चार्तुय श्रेष्ठ। कलयुग के पितृदेव। हम आपकी श्रेष्ठता को नमन करते हैं। हम उस उदार और समदर्शी सृष्टि का भी अभिनंदन करते हैं जिसने आपको

बप्पा और सेल्फी वाले भक्त (व्यंग आलेख)

प्रभुनाथ शुक्ल भक्ति की अपनी शक्ति है। भक्ति और उसकी धारा का विच्छेदन और विश्लेषण करना आसान नहीं है। कण-कण में भक्ति का भाव समाया हुआ है। तेरे में मेरे

भारत में सबसे अधिक महिलाएं करती हैं आत्महत्या

(विश्व आत्महत्या निवारण दिवस 10 सितम्बर पर विशेष) आत्महत्या जिंदगी का सबसे प्राणघातक फैसला है। जीवन में कई स्थितियां ऐसी बनती हैं जब इंसान उससे लड़ नहीं पाता। जब उसे

व्यंग : इलेक्शन की माउथ स्ट्राइक

होली रंग और मन मिजाज का त्यौहार है। क्योंकि अपना देश भी रंगीला है। यहां की हर बात निराली है। होली और चुनाव में चोली-दामन का साथ है। दोनों उमंग,

मैडम महबूबा ! राजनीति नहीँ कश्मीर की सोचिए 

राजनीति क्यों और किसके लिए होनी चाहिए। उसका उद्देश्य क्या होना चाहिए । राजनीति में नीति के साथ उसका धर्म और समावेशी सामाजिक विकास के साथ राष्ट्रीयहित शामिल होना चाहिए। लेकिन

12 जनवरी युवा दिवस पर विशेष : युवाओं की उम्मीद को नई उड़ान चाहिए

युवा किसी भी राष्ट्र की असीम पूँजी होते हैं । आर्थिक, समाजिक और राजनीति में उनकी अहम भूमिका होती है । युवाओं में धारा और व्यवस्था बदलने की पूरी ताकत

आजाद भारत में इस शौर्य दिवस का मतलब क्या ?

भीमा गाँव की हिंसा भारत को बाँटने की साजिश ? हिंदुस्तान से अंग्रेज़ विदा हो गए , लेकिन फूट डालो और राज करो का बीज़ जो उन्होंने बोया था। वह

जन्म दिवस 25 दिसम्बर पर विशेष आलेख : राजनीति के महानायक और युग पुरुष अटल जी

भारत के राजनीतिक इतिहास में अटल बिहारी बाजपेयी का संपूर्ण व्यक्तित्व शिखर पुरुष के रुप में दर्ज है। दुनिया में उनकी पहचान एक कुशल राजनीतिज्ञ, प्रशासक, भाषाविद, कवि, पत्रकार व

गुजरात धड़ाम गिरा काँग्रेस का नरम हिंदुत्व

राजनीतिक लिहाज से अहम गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनावी नतीजों की तस्वीर साफ हो चली है । परिणाम बहुत अप्रत्याशित नहीँ हैं । हिमाचल पर यह बात पहले से

राहुल गाँधी क्या कर पाएंगे मोदी का मुकाबला ?

काँग्रेस एक नई उम्मीद और भरोसे के साथ पार्टी नेतृत्व की जिम्मेदारी चौथी पीढ़ी के युवराज राहुल गाँधी के कंधे पर देने जा रही है । अभी तक पार्टी में

सरदार के सपने को मोदी ने दिया आयाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 67 वें जन्म दिन पर दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी जल परियोजना सरदार सरोवर डैम देश को समर्पित किया। निश्चित तौर पर उन्होंने इतिहास का

Skip to toolbar