National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

वृष (Taurus) : अगस्त 2020, मासिक राशिफल

सामान्य
वृषभ राशि के जातक होने कारण आप सुख प्राप्ति के लिए भरपूर मेहनत करते हैं और यही मेहनत आपकी इस महीने भी जारी रहेगी। आप अपनी वाणी के दम पर अपने सभी काम निकलवा पाने में सक्षम रहेंगे और आपके अपने भी, जिनसे आपकी तनातनी चल रही है, आप अपनी मीठी बातों के द्वारा उन्हें मना पाने में कामयाब होंगे और यही आपकी खूबी सामान्य तौर पर इस महीने सामने आएगी। आपके पराक्रम में वृद्धि होगी और अनेक परियोजनाओं को आप समय रहते हल कर पाएंगे, जिससे आपके जीवन में आर्थिक लाभ के मार्ग खुलेंगे। इसके अतिरिक्त लंबे समय की परियोजनाओं के लिए आप अपना दिमाग लगाएंगे, जो आने वाले समय में आपके लिए बेहतर साबित होंगी। इस दौरान वरिष्ठ अधिकारियों से अच्छे संबंध बनाए रखना आपके लिए बेहतर होगा। आर्थिक तौर पर आप ठीक-ठाक रहेंगे। हालांकि आध्यात्मिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेंगे और यदि कोई शोध कार्य करते हैं, तो उसमें अच्छी सफलता प्राप्त कर पाएंगे।
कार्यक्षेत्र
आइए अब आप के करियर पर नजर डालते हैं। आपके दशम भाव का स्वामी शनि नवम भाव में विराजमान हैं, जो आपके करियर में मजबूती की ओर इशारा करता है। शनिदेव की यह स्थिति आपको कार्यक्षेत्र में बदलाव की भी और इंगित करती है। अर्थात यदि आपने काफी लंबे समय से किसी ट्रांसफर के लिए आवेदन किया हुआ है, तो इस दौरान आपकी मुराद पूरी हो सकती है। साथ ही आपके कार्यक्षेत्र में आपकी दक्षता को देखते हुए आपको उचित रूप से सम्मानित किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त छठे भाव का स्वामी शुक्र आपके दूसरे भाव में गोचर कर रहा है, जिसकी वजह से आपके प्रयासों से नौकरी में अच्छे परिणाम मिलेंगे और आपको आर्थिक लाभ भी मिल सकता है। वहीं अगर आप व्यापार करते हैं, तो सप्तम भाव का स्वामी मंगल आपके एकादश भाव में बैठा है, जो आपकी आर्थिक प्रगति की ओर इशारा करता है और आपके व्यापार में तरक्की देता है, लेकिन मंगल का गोचर बारहवें भाव में होने के बाद अनेक स्रोतों से आपको लाभ हो सकता है। इस दौरान आपकी सरकारी क्षेत्र से कोई डील फाइनल हो सकती है, जो आपके लिए फायदे का सौदा साबित होगी।

आर्थिक
आप के आर्थिक जीवन पर नजर डालें तो दूसरे भाव में तीन ग्रहों की युति और अष्टम भाव में बैठे ग्रहों की दृष्टि भी दूसरे भाव पर होने से आपको अच्छे धन लाभ की उम्मीद करनी चाहिए। विशेष रूप से कोई पैतृक संपत्ति या अचानक से प्राप्त होने वाला धन भी आपके सामने आ सकता है, जो आपकी आर्थिक स्थिति को अचानक से मजबूत बना सकता है। वहीं नवम भाव में बैठे योगकारक शनिदेव आपकी आमदनी में स्थाई जरिया बनाने की संभावनाओं को बढ़ाएंगे और आपकी आमदनी में वृद्धि अवश्य ही होगी। महीने के उत्तरार्ध में मंगल का गोचर बारहवें भाव में होने के बाद आपके खर्चों में वृद्धि होने लगेगी, जिस पर नियंत्रण रखना आपके लिये आवश्यक होगा, अन्यथा स्थितियां आपके हाथ से निकल सकती हैं। हालांकि आमदनी काफी अच्छी रहेगी, फिर भी आपको इस दौरान किसी बड़े निवेश से बचना चाहिए और यदि शेयर बाजार में निवेश करते हैं, तो सोच समझ कर और मार्केट की चाल को समझ कर ही निवेश करना बेहतर होगा।

स्वास्थ्य
स्वास्थ्य के नज़रिए से देखें तो महीना थोड़ा सा कमजोर रह सकता है, उसकी वजह है अष्टम भाव में बृहस्पति और केतु की युति और द्वितीय भाव में शुक्र, बुध और राहु की युति, जिस पर मंगल का प्रभाव भी है। ऐसी स्थिति में आपका दूसरा और अष्टम भाव पीड़ित है तथा एकादश भाव में बैठे मंगल पर जो कि आपके लिए सप्तम और द्वादश का स्वामी है, शनि की दृष्टि भी है। इसका मतलब महीने का पूर्वार्ध काफी हद तक ध्यान से चलने वाला है। इस समय खंड में आपको स्वास्थ्य समस्याएं परेशान कर सकती हैं और आप कमज़ोरी का अनुभव कर सकते हैं क्योंकि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी हो सकती है। हालांकि महीने के उत्तरार्ध में मंगल का गोचर आपके बारहवें स्थान पर होगा। उस दौरान थोड़ी सी राहत अवश्य मिल सकती है। हालांकि उस दौरान आपको किसी प्रकार की चोट या दुर्घटना की संभावना हो सकती है। आपको अधिक मात्रा में जलीय पदार्थों का सेवन करना चाहिए और पर्याप्त नींद लेनी चाहिए, तभी आप समस्याओं से बचे रह सकते हैं।

प्रेम व वैवाहिक
प्रेम संबंधों की बात की जाए तो इसके लिए अधिक अनुकूलता दिखाई नहीं दे रही है और उसकी वजह है, पंचम भाव के स्वामी का पीड़ित अवस्था में होना और उस पर तथा पंचम भाव पर मंगल की दृष्टि होना। ऐसे में अत्यधिक जल्दबाजी किसी भी काम में करने के कारण आपका प्रियतम आपसे नाराज हो सकता है अथवा आप दोनों के बीच तीखी नोक झोंक हो सकती है, जिससे आपका मन कुछ उदास रह सकता है। आपको अपनी मीठी बातों से अपने प्रियतम का दिल जीतने का प्रयास करना चाहिए। वहीं जब मंगल का गोचर बारहवें भाव में होगा और बुध का गोचर आपके तीसरे भाव में होगा, तब स्थितियां काफी हद तक आपके पक्ष में आएँगी और आप अपनी युक्तियों से और अपनी संवाद शैली की बदौलत अपने प्रियतम का दिल जीत पाने में कामयाब रहेंगे और अच्छी लव लाइफ को एंजॉय करेंगे।
यदि आप शादीशुदा हैं, तो इस महीने के दौरान जीवनसाथी को कोई आर्थिक लाभ मिल सकता है, जो आपके आर्थिक लाभ का कारण बनेगा, जिससे आप मानसिक तौर पर प्रसन्न रहेंगे, लेकिन महीने का उत्तरार्ध अनुकूल नहीं है। इस दौरान आपके जीवन साथी का जहां एक ओर स्वास्थ्य कमजोर पड़ सकता है, वहीं दूसरी ओर उनके स्वभाव में परिवर्तन आने से उनकी वाणी में कर्कशता और व्यवहार में कुछ उग्रता बढ़ सकती है, जो कि दांपत्य जीवन में तनाव का कारण बन सकती है। आप अपनी ओर से पूरी तरह से प्रयास करेंगे कि स्थितियों को सामान्य किया जा सके। हालांकि कभी-कभी आप की कोशिशें कामयाब नहीं भी होती हैं और ऐसी स्थिति में आपको तनाव का सामना करना ही पड़ेगा, लेकिन फायदा इसी में है कि इस समय को निकल जाने दें ताकि दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने का प्रयास किया जा सके।

पारिवारिक
पारिवारिक जीवन पर नजर डाली जाए तो महीने की शुरुआत काफी बेहतर तरीके से होगी और परिवार में एकजुटता होगी। सूर्य का गोचर चतुर्थ भाव में महीने के उत्तरार्ध में होगा। तब स्थितियों में थोड़ा परिवर्तन आ सकता है, क्योंकि उस दौरान आप परिवार के लोगों पर प्रभुत्व स्थापित करने की इच्छा रखेंगे। अर्थात अपने आप को सर्वोपरि मानना चाहेंगे, जिसमें आपको कुछ विरोधों का सामना करना पड़ सकता है और इसकी वजह से आपका मन परिवार वालों के प्रति थोड़ा उखड़ा सकता है। कुटुंब में महिलाओं का सम्मान करना आपके लिए आवश्यक होगा, नहीं तो झगड़े की स्थिति बनेगी। कुछ विपरीत परिस्थितियों भी सामने आएँगी, जब आपको डटकर खड़े रहना होगा और परिवार के लोगों के साथ रहकर ही आप अपने आप को मजबूती दे पाएंगे। महीने का पूर्वार्ध आपके भाई बहनों के लिए अधिक अनुकूल नहीं है, लेकिन उत्तरार्ध की परिस्थितियां बेहतर बनेंगी और उन्हें उनके क्षेत्र में सफलता मिलने की आंशिक संभावना दिखा रहा है। ससुराल पक्ष के लोगों के साथ किसी धार्मिक कार्य में सम्मिलित होने का मौका मिल सकता है।

उपाय
आपको इस महीने उपाय के तौर पर मंगलवार के दिन गुड़ और चना छोटे बालकों को बाँटना चाहिए तथा संभव हो तो बंदरों को चूरमा अथवा केले खिलाने चाहिए। इसके अतिरिक्त यदि संभव हो तो मंगलवार के दिन रक्तदान करना सबसे बेहतर रहेगा। शनि देव की मन से उपासना करें। इस दौरान वे आपके लिए भरपूर सफलता प्रदान करने वाले साबित होंगे। इसके अतिरिक्त बुध देव की अनुकंपा पाने के लिए पन्ना रत्न धारण करना भी आपके लिए अनुकूल रहेगा। आटे का कसार बनाकर थोड़ी सी चीनी मिलाकर चीटियों को डालने से भी आपके कामों में आ रही अड़चनों से आपको मुक्ति मिलेगी और सभी काम बेहतर तरीके से बनने लगेंगे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar