National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

देश मना रहा है आज हिंदी दिवस, राष्ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं

नई दिल्ली. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी हिंदी दिवस के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं और सरकार के पोर्टल rajbhasha.gov.in पर उनका संपूर्ण बधाई संदेश उपलब्ध है. उनके शुभकामना संदेश का एक भाग यहां देख सकते हैं.

हिंदी से मिली स्वीकार्यता
भारत के राष्ट्रीय आंदोलन में लोकमान्य तिलक, महात्मा गांधी, केशव चंद्र सेन, ईश्वर चंद्र विद्यासागर, सुभाष चंद्र बोस, काका कालेलकर और विनोबा भावे जैसे कई अहिन्दीभाषी महान नेताओं ने हिन्दी की सम्पर्क और संप्रेषण शक्ति का लोहा माना था और गांधी जी ने तो इसे जनमानस की भाषा करार दिया था. यही कारण है कि उन्होंने उस नाजुक समय में भी 1918 के हिन्दी साहित्य सम्मेलन के दौरान हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने का मंतव्य व्यक्त किया और स्वयं राष्ट्रीय स्वीकार्यता प्राप्त की. यह राष्ट्रीय आंदोलन का ही अनुभव और दबाव था कि स्वतंत्रता मिलने के बाद 14 सितम्बर 1949 को संविधान सभा ने हिन्दी को भारत की राजभाषा बनाने का एक मत से निर्णय लिया. इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने और हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर वर्ष 1953 से पूरे भारत में 14 सितम्बर को प्रतिवर्ष हिन्दी-दिवस के रूप में मनाया जाता है. अब तो यह हिंदी सप्ताह और हिंदी पखवाड़ा तक खिंचता रहता है.

भारत में 14 सितंबर को मनाया जाता है हिन्दी दिवस
जहां एक तरफ वैश्विक स्तर पर हिन्दी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है तो वहीं भारत में इससे अलग हिंदी दिवस मनाते हैं. भारत में 14 सितंबर का दिन हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है. दरअसल, इसके पीछे भी एक कारण है. साल 1949 में 14 सितंबर को ही हिंदी को देश की राजभाषा बनाया गया था. उस वक्त भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू थे. इन्होंने ही हिंदी के महत्व को देखते हुए 14 सितंबर को ही हिंदी दिवस मनाने की घोषणा की थी. देश में हिंदी दिवस के अवसर पर अलग अलग कार्यक्रम आयोजित होते हैं लेकिन इस बार कोरोना संकटकाल के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा है. जहां सरकारी कार्यक्रमों पर कोरोना संकटकाल का असर है वहीं स्कूल-कॉलेज व विश्वविद्यालयों में होने वाले आयोजन भी नहीं हुए हैं.

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar