न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

सिरसा में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं, जरूरत अनुसार करवाई जाएगी उपलब्ध: बिजली मंत्री रणजीत सिंह

सिरसा। प्रदेश के बिजली, अक्षय ऊर्जा एवं जेल मंत्री रणजीत सिंह ने कहा कि सिरसा में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है। कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए सभी आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हैं। सरकार आमजन के स्वास्थ्य के प्रति पूरी तरह से गंभीर है, मरीजों के इलाज में किसी भी प्रकार की कमी नहीं रहने दी जाएगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल के हाल ही में हुए दौरे से जिला में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार को बल मिला है और साथ ही जिला वासियों का हौसला भी बढ़ा है। जिला में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है और जरूरत अनुसार आॅक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। बिजली मंत्री बुधवार को फैकल्टी हाउस में अधिकारियों के साथ कोविड-19 की स्थिति व प्रबंधों बारे समीक्षा बैठक कर रहे थे। इस दौरान पूर्व चेयरमैन जगदीश चौपड़ा, उपायुक्त प्रदीप कुमार, अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह, एसडीएम जयवीर यादव व नगराधीश गौरव गुप्ता, सिविल सर्जन डा. कृष्ण कुमार उपस्थित थे। उपायुक्त प्रदीप कुमार ने बिजली मंत्री को अब तक कोविड-19 के संबंध में किए जा रहे प्रबंधों व व्यवस्थाओं के बारे में अवगत करवाया। बिजली मंत्री जिन्हें सरकार की ओर से सिरसा व फतेहाबाद के कोविड-19 प्रबंधों व सुविधाओं के लिए प्रभारी बनाया गया है। उन्होंने कहा कि सिरसा में कोरोना स्थिति नियंत्रण में और लॉकडाउन का ही असर है जिससे कोरोना को लेकर स्थिति में काफी सुधार हुआ है। कोरोना संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए लॉकडाउन जरूरी है। आमजन द्वारा लॉकडाउन की पालना के साथ-साथ सरकार व प्रशासन का सहयोग करने से कोरोना संक्रमण के फैलाव पर निश्चित रूप से अंकुश लगेगा। उन्होंने कहा कि जिला में आॅक्सीजन, बैड, वेंटिलेटर, दवाई आदि स्वास्थ्य सुविधाएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। आॅक्सीजन का कोटा पहले दो मीट्रिक टन था जिसे बढ़ाकर साढ़े सात मीट्रिक टन किया गया था, परंतु साढे चार मीट्रिक टन में ही सिरसा जिला की जरूरत पूरी हो रही है, जरूरत अनुसार आॅक्सीजन की तुरंत व्यवस्था की जाएगी। सरकार की ओर से खेदड़ के थर्मल प्लांट में भी आॅक्सीजन बनाने का कार्य शुरू कर दिया गया है, जहां से हिसार व कैथल को आॅक्सीजन की सप्लाई मिलेगी। सिरसा में जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त प्रयासों से कोविड-19 मरीजों को बेहतर चिकित्सीय सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। बैड, चैकअप आदि के रेट निजी अस्पताल करें चस्पा: बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने कहा कि आमजन की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सभी निजी अस्पतालों में बेड, चेकअप सहित कोविड-19 इलाज संबंधी रेट निर्धारित कर अस्पतालों में चस्पा किए जाएं। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा निजी एंबुलेंस संचालकों के लिए रेट निर्धारित किए हैं। इसके तहत दुर्घटना या फिर किसी इमरजेंसी में एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस 15 रुपए प्रति किलोमीटर और बेसिक लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस 7 रुपए प्रति किलोमीटर की दर से रेट निर्धारित किए गए हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि सरकारी व निजी एंबुलेंस सुविधा के लिए एक कंट्रोल रूम की स्थापित किया जाए और कंट्रोल रूम से सभी एंबुलेंस को कंट्रोल किया जाए ताकि जरूरत पडऩे पर लोगों को किसी प्रकार की परेशानी न हो। अस्पतालों में वॉलियंटर तैनात, स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता पर रखेंगे निगरानी : बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने बताया कि कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने तथा इस बारे प्रशासन के साथ आपसी समन्वय के लिए नोडल अधिकारियों के साथ वॉलियंटर की तैनाती की गई है। उन्होंने बताया कि पूर्व चेयरमैन जगदीश चोपड़ा व 15 सदस्यीय कमेटी की ओर से 50 समर्पित वॉलियंटर भी रखे गए हैं, जिनकी जरूरत अनुसार सेवाएं ली जाएंगी। जेसीडी में की गई 100 बैड की व्यवस्था, डॉक्टर की गई तैनाती : बिजली मंत्री ने कहा कि सिरसा में कोरोना की संभावित स्थिति अनुसार सुविधाओं को विस्तार दिया जा रहा है। इसी कड़ी में जेसीडी में 100 बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें से 50 बैड सभी आवश्यक सुविधाओं के साथ सेवाओं के तैयार हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही पैरामेडिकल स्टाफ व डॉक्टर की भी जरूरत अनुसार अस्पतालों में तैनाती का कार्य शुरू किया जा चुका है। इस कार्य में आईएमए का भी सहयोग लिया गया है। इसके अलावा 150 बैड की व्यवस्था विधायक गोपाल कांडा द्वारा करवाई जा रही है, जहां पर शीघ्र ही सुविधाएं मिलनी शुरू हो जाएगी। गांवों व होम आइसोलेशन में वितरित की जाएंगी मेडिकल व आयुर्वेद उत्पाद किट : बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने बताया कि शुरूआत लक्षणों में घर पर ही प्राथमिक उपचार किया जाए तो गंभीर स्थिति की संभावना कम हो जाती है और मरीज घर पर ही स्वस्थ हो सकता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए गांवों व होम आइसोलेशन में कोविड-19 इलाज संबंधी मेडिकल किट व इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेद उत्पाद की किट वितरित की जाएंगी। इससे लोग घर पर रहकर स्वास्थ्य लाभ ले सकेंगे और अस्पतालों का भी दबाव कम होगा। उन्होंने जिला सिरसा को स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए 50 लाख रुपये दे दिए हैं जिनमें से 10 लाख रुपये की राशि से मेडिकल व इम्यूनिटी बढाने की किट तैयार की गई है जिसका वितरण कार्य शीघ्र ही शुरू कर दिया जाएगा। होम आइसोलेशन मरीजों के लिए सिविल अस्पताल में होगा कंट्रोल रूम स्थापित : बिजली मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि होम आइसोलेशन मरीजों के लिए सिविल अस्पताल में कंट्रोल रूम स्थापित किया जाए, ताकि होम आइसोलेशन मरीज अपने स्वास्थ्य के बारे में चिकित्सीय सलाह ले सके और उसकी स्वास्थ्य रिपोर्ट भी मिलती रहे। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को मात देने के लिए लोगों को चाहिए कि वे मास्क व दो गज की दूरी की पालना अनिवार्य रूप से करें तथा भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में जाने से बचें। सरकार व प्रशासन की ओर से कोरोना संक्रमित लोगों के स्वास्थ्य लाभ के लिए हर संभव सहयोग दिया जा रहा है। ऐसे में आपदा की इस स्थिति का मुकाबला डटकर सुरक्षात्मक रूप से किया जाए न की घबरा कर। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निरंतर अपडेट रहने को कहा और मानवीय अधिकार पर ड्यूटी करते हुए उनकी कार्यशैली की सराहना की और उन्हें प्रोत्साहित किया। उनहोंने कहा कि पूरे प्रदेश में कोरोना संक्रमण चक्र को तोडऩे के लिए सरकार गंभीरता से कार्य कर रही है और इस मुहिम में अब सभी को सजग प्रहरी के रुप में अपना दायित्व निभाना होगा। उन्होंने निजी क्षेत्र के चिकित्सकों से आह्वद्दान किया कि मरीजों को रियायती दरों पर स्वास्थ्य सेवाएं दे। दूसरे चरण के तहत इसी वर्ष 40 हजार किसानों को जारी होंगे ट्यूबवेल कनेक्शन : बिजली मंत्री बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने बताया कि हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा प्रदेश में पहले चरण में आठ हजार 402 ट्यूबवेल कनेक्शन जारी किए जा चुके हैं तथा जिन आवेदकों ने 31 दिसंबर 2018 तक आवेदन किया था ऐसे 40 हजार आवेदकों को दूसरे चरण में 50 बीपीएच तक ट्यूबवेल कनेक्शन दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि तीन स्टॉर रेटिड ऊर्जा कुशल सबमर्सिबल मोटर-पंपसेट के लिए मै. ओसवाल पंप लिमिटेड करनाल के डीलरों को नामित किया गया है। इसके अलावा मै. शक्ति पंप इंडिया लिमिटेड, मै. क्रप्टन ग्रीब्स कंजुमर इलेक्ट्रीकल लिमिटेड, मै. ला-गैजर मशीनरीज प्राइवेट लिमिटेड, मै. सीआरआई पंप प्राइवेट लिमिटेड, मै. ड्यूक प्लास्टो टेक्रीक प्राइवेट लिमिटेड, मै. एक्वासब इंजीनियररिंग व मै. लूबी इंडस्ट्रीज एलएलपी से तीन स्टॉर रेटेड सबमर्सिबल मोटर पंपसेट खरीद सकते हैं। उन्होंने बताया कि तीन एचपी के लिए 20 हजार 600 रुपए, पांच एचपी के लिए 24 हजार 400 रुपए, 7.5 एचपी के लिए 29 हजार 100 रुपए, 10 एचपी के लिए 32 हजार 800 रुपये, 12.5 एचपी के लिए 36 हजार 100 रुपये, 15 एचपी के लिए 43 हजार 300 रुपये, 17.5 एचपी के लिए 43 हजार 400 रुपये, 20 एचपी के लिए 50 हजार 700 रुपये, 25 एचपी के लिए 57 हजार 200 रुपये तथा 30 एचपी के लिए 64 हजार 500 रुपये कीमत निर्धारित की गई है। निर्धारित शुल्क में पांच वर्ष की वारंटी के साथ मोटर-पंपसेट का साइट सर्वेक्षण, आपूर्ति, इंस्टालेशन और कमीशनिंग भी शामिल है। आवेदक को आॅनलाइन सिक्योरिटी फीस जमा करवानी होगी तथा नामित कंपनी की तीन स्टॉर रेटिड सबमर्सिबल मोटर पंपसेट खरीदनी होगी। तत्पश्चात बिजली निगम के एसडीओ व जेई आवेदक के खेत में जाकर इसका निरीक्षण करेंगे। पूर्व चेयरमैन जगदीश चोपड़ा ने भी बैठक में अपने सुझाव रखे और बताया कि अस्पतालों में वॉलेंटियर नियुक्त कर दिए गए हैं, जो निस्वार्थ भाव से अपनी सेवाएं देंगे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar