National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

3 मई के बाद क्या ?

चीन से निकला जानलेवा कोरोना वायरस ने आज पूरी दुनिया को लॉकडाउन कर दिया है । लोग अपने घरों में रहकर कोरोना से जंग लड़ रहें हैं । बात करें भारत की तो यहां कोरोना वायरस का कहर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है । रोज़ हज़ारों की तादाद में नए मरीज़ आ रहें हैं और अब तो ऐसे मरीज़ आ रहें हैं जिनके अंदर कोरोना के लक्षण ही नहीं हैं । अब भारत में 31 हज़ार से अधिक कोरोना पीड़ितों के मामले आ चुकें है । इस जानलेवा वायरस का नुकसान सबसे अधिक महाराष्ट्र में हुआ है । यहां कोरोना पीड़ितों की संख्या अब 9 हज़ार पहुंचने वाली है । जैसे-जैसे 3 मई नज़दीक आ रही है वैसे ही मन में कौतुहल भी बढ़ती जा रही है कि क्या 3 मई को लॉकडाउन खत्म होगा या नहीं ? इसका जवाब यह है कि जिस प्रकार से कोरोना मरीजों मे इजाफा हो रहा है तो इसे देखते हुए सम्भवतः लॉकडाउन बढ़ सकता और जहाँ पर कोरोना का मामला नहीं है या फिर थोड़े-बहुत मामले हैं तो वहां थोड़ी छूट दी जा सकती है । मगर लॉकडाउन पर जल्दीबाज़ी करना एक बहुत बड़ी लापरवाही भी साबित हो सकती है । भारत यह बात अच्छी तरह जानता है कि अगर लॉकडाउन ना होता तो आज भारत की स्थिति बहुत ही दर्दनाक होती और तब मौतों का आंकड़ा जो अभी हज़ार भी नहीं पहुंचा है वह लॉकडाउन के बगैर 50 हज़ार के करीब होता । क्योंकि अमेरिका में लॉकडाउन को लेकर बड़ी गलती हुई । यहां कोरोना वार्स को हल्के में लेते रहें और समय पर लॉकडाउन नहीं लगाया गया जिसके चलते आज यहां 58 हज़ार के करीब मौतों का आंकड़ा पहुंच चुका है । इस प्रकार से देखा जाए तो भारत में लॉकडाउन ने अपना अहम किरदार निभाया है और अगर लोग इसमें साथ देते और कोई भी लापरवाही ना करते तो आज भारत कोरोना मुक्त होता । मगर अब लोगों को जानबूझकर लापरवाही करने से बचना होगा और इसका सलीके से पालन करना होगा तभी हम कोरोना को हरा पाएंगे । उदाहरण के तौर पर चीन ने अपने यहाँ जब लॉकडाउन तो उसके बाद यहां की बिगड़ी हुई स्थिति सुधरने लगी और इसका नतीजा यह रहा की आज चीन कोरोना मुक्त है । इसमें यहां के लोगों ने अहम भूमिका निभाई और लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया । भारत में लॉकडाउन को समाप्त करने से पहले पूरी रणनीति बनाकर ही खोलना चाहिये । अभी हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिये लॉकडाउन पर सुझाव मांगे और चार मुख्यमंत्री लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में थे । ऐसे में अगर जहां कोरोना वायरस का कहर कम है वह चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन खोलने की गुंजाइश करी जा रही है । इसके साथ ही जहाँ भी छूट दी जाएगी तो इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं होगा की लोग बेमतलब घर से बाहर घूमने-फिरने निकल जाएं । क्योंकि कोरोना वायरस एक छुआछूत की बीमारी है और यदि आप बाहर बेमतलब टहलते हैं तो फिर आप अपनी जिंदगी को दाँव पर लगाने जा रहें हैं । तो जहाँ पर भी छूट दी जायगी वहां के लोगों को और जागरूक होना होगा और घर से तभी निकलना होगा जब बेहद ही ज़रूरी काम हो । साथ ही मास्क लगाना और दो गज की दूरी का भी ध्यान रखना होगा अब बात करें जहाँ पर लॉकडाउन लागू रह सकता है वहां के लोगों निराश नहीं होना चाहिए बल्कि एक कोरोना योद्धा के तौर पर लॉकडाउन का पालन करके इस वायरस को मात देने में सहयोग करना होगा । क्योंकि जब तक इस वायरस का कोई टीका बन नहीं जाता तब तक लॉकडाउन ही एक मात्र उपाय है इस वायरस से लड़ने के लिए । तो कुल मिलाकर 3 मई के बाद लोगों और सतर्क रहने की ज़रूरत है क्योंकि भारत में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है इसके अलावा लॉकडाउन का सख्ती से पालन करना होगा क्योंकि आपकी एक छोटी से लापरवाही देश के लिये एक बड़ी मुसीबत बन सकती है ।

यशस्वी सिंह , मीडिया छात्र , इलाहाबाद विश्विद्यालय
प्रयागराज

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar