न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

बीवी बॉस सदा डरावे!

मैं डरते-डरते कह रहा हूं कि आजकल किसी से नहीं डरता हूं। मैं न कोरोना से डरता हूं, न किसी नेता से। न किसी भूत से डरता हूं और न ही किसी पुलिस से! जब मैं अपनी ठुड्ढी पर मास्क लहराता हूं, तो कोरोना घबरा कर भाग जाता है। भूत को जब उसकी पत्नी की याद दिलाता हूं, तो भूत करहाने लगता है। असल मैं मुझे दो से डर लगता है। पहला डर बीवी से और दूसरा डर बॉस से! इन दोनों से चौबीसों घंटे डरता हूं। बीवी घर में ही नहीं डराती, बल्कि ऑफिस में भी पीछा नहीं छोड़ती है। क्या कर रहे हो? किससे बातें कर रहे हो? फोन इतना बिजी क्यों आ रहा है? घर आते वक्त वो-वो लेते आना! तुम्हें आजकल मेरी थोड़ी भी परवाह नहीं है! फोन पर पूरी बात सुनते ही नहीं हो! जब भी फोन करती हूं, बिजी हूं, ऐसा कहते हो? जाने कहां बिजी रहते हो? दूसरों से तो हंस-हंस के बहुत बातें करते हो! मैं ही तुम्हें कड़वी लगती हूं! कभी भी 2 सेकंड से ज्यादा फोन पर बात नहीं करते? ऐसे कई-कई अध्याय बीवी ऑफिस में सुनाती है। जब घर आता हूं, तो इन एक-एक अध्याय का एक-एक उपन्यास पढ़ाया जाता है। फिर प्रश्न पूछे जाते हैं कि समझ में आया कि नहीं! अगर इसका जवाब देने लग जाता हूं, तो फिर से एक नया उपन्यास पढ़ना पड़ता है। एक अच्छा पत्नीव्रता महापुरुष वही होता है जो गर्दन झुका कर, आंखें धरती में गड़ा कर, चुपचाप पत्नी पुराण सुन ले।

बॉस भी कोई कम चीज नहीं है। ऑफिस में तो माथा खाता ही रहता है। लेकिन घर पर भी बॉस फोन खड़काता रहता है। व्हाट्सएप खोलता हूं, तो बॉस का ऑडियो बम फटने लगता है। ऑफिस के सभी कर्मचारी ध्यान दें… इस वाक्य से शुरू हुआ ऑडियो बम धड़कनें तेज कर देता है। रक्तचाप बढ़ा देता है। मुंह-चेहरे को रुखा कर देता है। सांसे अंदर से खींच कर दांतों में अटका देता है। आज की आज ही यह रिपोर्ट चाहिए! वह फाइल अधूरी क्यों पड़ी है? फील्ड में जाकर कुत्तों की गणना आज ही पूरी करनी है! जनता में यह मैसेज आज ही चला जाना चाहिए! अगर यह सब नहीं हुआ तो आपके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी! तुरंत ही 17 सीसी का नोटिस दिया जाएगा! ऐसे-ऐसे ऑफिसी पुराण बांचकर बॉस बीवी से आगे निकल जाता है। डांटने के मामले में दोनों के बीच बड़ा कंपटीशन है। कोरोना-भूत हो तो निपट लूं! चुड़ैल-डायन से भी निपट लूं! हाय! इनसे कैसे निपटा जाए? पहले नई-नवेली बीवी केवल घर में ही उधम मचाती थी, अब पुरानी पड़कर ऑफिस तक फैल गई। पुराना बॉस केवल पहले ऑफिस तक ही उधम मचाता था, नया होकर वह अब घर तक फैल गया। बॉस जिस सूचना को 3 बजे पहले-पहले मांगता है, उससे संबंधित आदेश 4 बजे व्हाट्सएप करता है। क्या करें इसका इलाज? शास्त्रों में कहा गया है कि जो बॉस से विवाद करता है, वह जीते जी कुंभीपाक नर्क में जीता है। जिसने बीवी से किया विवाद, उसे अपनी समस्त प्रकार की नानियां हुई है याद। कबीर ने शायद बॉस और बीवी के पाटों में फंसकर ही यह लिखा होगा- दो पाटन के बीच में साबुत बचा न कोय। ऐसा कहकर कबीर ने गृहस्थी से त्यागपत्र देकर बाबा होने में ही अपनी भलाई समझी होगी! बॉस का व्हाट्सएप ऑडियो बम आया है- सभी कर्मचारी ध्यान दें…! उधर बीवी चीख रही है- ये क्या मोबाइल में घुसे पड़े हो! इनसे कौन बचाए!

रामविलास जांगिड़

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar